ताज़ा खबर
 

विजय हजारे ट्रॉफी में झारखंड की अगुवाई करेंगे धोनी, दो दिन पहले पुणे ने छीनी थी कप्तानी

पिछले दो सत्र में झारखंड के लिए खेलते हुए धोनी ने कभी भी टीम की अगुवाई नहीं की।
Author नई दिल्ली/कोलकाता | February 21, 2017 18:35 pm
आईपीएल टीम राइजिंग पुणे सुपरजाएंट्स के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी।(Photo: IPL Twitter Handle)

दो दिन पहले अपनी आईपीएल फ्रेंचाइजी राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स की कप्तानी से हटाये गये महेंद्र सिंह धोनी को 25 फरवरी से शुरू हो रही विजय हजारे ट्रॉफी के लिए मंगलवार (21 फरवरी) को झारखंड की टीम का कप्तान चुना गया। पिछले दो सत्र में झारखंड के लिए खेलते हुए धोनी ने कभी भी टीम की अगुवाई नहीं की, लेकिन इस बार उन्होंने जिम्मेदारी निभाने का बीड़ा उठाया। राष्ट्रीय चैम्पियनशिप के लिए यह झारखंड की मजबूत टीम होगी।

धोनी के अलावा उनके पास विस्फोटक इशान किशन और घरेलू सत्र के शीर्ष स्पिनर शाहबाज नदीम टीम में हैं। इशांक जग्गी और वरुण आरोन भी उनकी टीम में हैं, जिन्हें हाल में आईपीएल अनुबंध मिला है। इसके अलावा उनके पास सौरभ तिवारी और युवा विराट सिंह भी हैं।

टीम इस प्रकार है:
महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), इशान किशन, इशांक जग्गी, विराट सिंह, सौरभ तिवारी, कौशल सिंह, प्रत्यूष सिंह, शाहबाज नदीम, सोनू कुमार सिंह, वरुण आरोन, राहुल शुक्ला, अनुकुल राय, मोनू कुमार सिंह, जसकरण सिंह, आनंद सिंह, कुमार देवब्रत, एस राठौड़, विकास सिंह।

धोनी को पुणे की कप्तानी से हटाया गया

महेंद्र सिंह धोनी को रविवार (19 फरवरी) को आईपीएल फ्रेंचाइजी राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के कप्तान पद से हटा दिया गया और उनके स्थान पर ऑस्ट्रेलियाई स्टीव स्मिथ को कप्तानी सौंपी गयी। इस तरह से धोनी की अंतरराष्ट्रीय और फ्रेंचाइजी क्रिकेट दोनों से कप्तानी के तौर पर पारी समाप्त हो गयी। धोनी ने इस साल के शुरू में भारत की सीमित ओवरों की टीम की कप्तानी छोड़ दी थी लेकिन वह टीम में बने हुए हैं। इसी तरह से वह पुणे फ्रेंचाइजी की तरफ से एक खिलाड़ी के रूप में खेलते रहेंगे।

राइजिंग सुपरजाइंट्स के मालिक संजीव गोयनका ने कहा, ‘धोनी ने इस्तीफा नहीं दिया। हमने आगामी सत्र के लिए स्टीव स्मिथ को कप्तान नियुक्त किया है। सच में कहूं तो पिछला सत्र हमारे लिए अच्छा नहीं रहा और हम चाहते थे कि कोई युवा खिलाड़ी टीम की अगुवाई करें और हमने आगामी सत्र से पूर्व इसमें बदलाव किए।’ यह पहला अवसर है जबकि सभी प्रारूपों से भारतीय टीम की कप्तानी छोड़ने वाले धोनी को उनके पद से हटाया गया। यह फैसला बेंगलुरु में सोमवार (20 फरवरी) को होने वाली खिलाड़ियों की नीलामी से एक दिन पहले किया गया।

गोयनका ने कहा, ‘मैं एक कप्तान और इंसान के रूप में धोनी को पूरा सम्मान करता हूं। धोनी हमारी टीम का हिस्सा बने रहेंगे। फ्रेंचाइजी के सर्वश्रेष्ठ हित में लिए गए फैसले का उन्होंने समर्थन किया है।’ धोनी 2008 में शुरू हुए इस टूर्नामेंट के सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक हैं और वह सबसे सफल भी रहे हैं। वह 2008 से 2015 तक अब निलंबित चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान रहे और उन्होंने टीम को 2010 और 2011 में खिताब दिलाए। इसके अलावा उनकी अगुवाई में चेन्नई ने 2010 और 2014 में चैंपियन्स लीग टी20 टूर्नामेंट का खिताब भी दिलवाया।

चेन्नई और राजस्थान रॉयल्स पर दो साल का प्रतिबंध लगने तथा पुणे और गुजरात लायन्स के रूप में दो नई फ्रेंचाइजी जुड़ने के बाद आईपीएल में एकमात्र ड्राप्ट में दिसंबर 2015 में सबसे पहले जिस खिलाड़ी को चुना गया वह धोनी थे। दोनों नई फ्रेंचाइजी टीमों को पांच-पांच खिलाड़ी चुनने का विकल्प दिया गया था। इसके बाद से ही धोनी पुणे फ्रेंचाइजी के साथ थे। उनकी जगह 27 वर्षीय स्मिथ को कप्तान बनाया गया है जो अभी ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान भी हैं। स्मिथ को 2014-15 में टेस्ट कप्तान नियुक्त किया गया था और 2015 विश्व कप के बाद से वह वनडे टीम के कप्तान भी हैं।

पुणे का पिछले सत्र में प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था और वह आठ टीमों में किंग्स इलेवन पंजाब से ऊपर सातवें स्थान पर रहा था। पूरे सत्र में उसकी टीम खिलाड़ियों के चोटिल होने की समस्या से जूझती रही थी। केविन पीटरसन, फाफ डु प्लेसिस और स्टीव स्मिथ जैसे खिलाड़ी चोटिल होने के कारण हट गये थे।

धोनी से पूछे बिना कोहली ने की डीआरएस की अपील, गलत साबित हुआ फैसला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.