December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

IND vs NZ: हार के बाद बोले धोनी, विकेट बचे होते तो लक्ष्य हासिल कर लेते

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने कहा कि इस पिच पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं था और इसलिए 260 रन का स्कोर बुरा नहीं था।

Author रांची | October 27, 2016 02:04 am
न्यूजीलैंड के खिलाफ़ रांची में खेले गए चौथे एकदिवसीय मैच के दौरान भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली। (PTI Photo by Swapan Mahapatra/26 Oct, 2016)

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने न्यूजीलैंड से चौथे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में हार के लिये बल्लेबाजों को जिम्मेदार ठहराते हुए बुधवार (26 अक्टूबर) को यहां कहा कि यदि कुछ विकेट बचे होते तो टीम लक्ष्य हासिल कर लेती। भारत के सामने 261 रन का लक्ष्य था लेकिन उसने नियमित अंतराल में विकेट गंवाए और आखिर में उसकी टीम 241 रन पर आउट हो गयी और उसे 19 रन से हार का सामना करना पड़ा। धोनी ने कहा कि दिल्ली में खेले गये दूसरे वनडे की तरह टीम को विकेट गंवाने का खामियाजा भुगतना पड़ा। धोनी ने मैच के बाद कहा, ‘मुझे लगता है कि यदि हमारे विकेट बचे होते तो हम 260 रन (261) का लक्ष्य हासिल कर सकते थे। यह भी दिल्ली जैसा मैच ही था जहां हमने लगातार विकेट गंवाए थे।’ उन्होंने कहा, ‘यह विकेट शाम को बल्लेबाजी करने के लिये काफी अच्छा था और मैच आगे बढ़ने के साथ धीमा होता जा रहा था। दूधिया रोशनी में नयी गेंद तब भी बल्ले पर आ रही थी लेकिन गेंद पुरानी होने के साथ बल्लेबाजी करना आसान नहीं रहा।’

धोनी ने अक्षर पटेल को पांचवें नंबर पर उतारा जबकि मनीष पांडे छठे और केदार जाधव सातवें नंबर पर आए। इनमें पटेल ही कुछ रन बनाने में सफल रहे। भारतीय कप्तान ने कहा, ‘बल्लेबाजी लाइनअप में पांचवें और छठे नंबर के बल्लेबाज नए हैं। उन्हें खुद ही सीखना होगा। किसी को लंबे शॉट खेलने होंगे तो किसी को पारी संवारनी होगी। एक बार जब वे 15 से 20 मैच खेल लेंगे तो उन्हें पता चल जाएगा कि क्या करना है। क्रिकेट बदल गया है, लोग बड़े शाट देखना चाहते हैं।’ धोनी ने कहा, ‘उन्हें लंबे शॉट खेलने से रोकना सही नहीं होगा। आप नहीं चाहते कि वे रक्षात्मक बन जाएं। उन्होंने सही गेंद मिलने पर अपने शॉट खेले। जब वे कुछ मैच खेल लेंगे तो उससे उन्हें सीख मिलेगी। अमूमन साल के इस समय में यहां ओस होती है और भारत में ओस होने पर हम पहले गेंदबाजी करना पसंद करते हैं। हमें अब निर्णायक मैच में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।’

न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने कहा कि इस पिच पर बल्लेबाजी करना आसान नहीं था और इसलिए 260 रन का स्कोर बुरा नहीं था। उन्होंने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं और मुझे अपनी टीम पर गर्व है। हम साझेदारियां निभाना चाहते थे। यह आसान पिच नहीं थी। आप हमेशा बड़ा स्कोर चाहते हो लेकिन इस पिच पर 260 रन का स्कोर बुरा नहीं था। ओस नहीं पड़ी और इससे शायद हमें फायदा मिला।’ विलियमसन ने कहा, ‘एंडरसन और ल्यूक रोंकी को बाहर करना कड़ा फैसला था। हम अलग अलग तरह की पिचों पर खेल रहे हैं और इसलिए चयन प्रभावित होता है। इसके अलावा यह लंबा दौरा रहा। श्रृंखला 2-2 से बराबर होने से रोमांचक बन गयी है। भारत शानदार टीम है और बराबरी के साथ आखिरी मैच में उतरना रोमांचक होगा।’ खराब फॉर्म से वापसी करने वाले मार्टिन गुप्टिल को उनकी अर्धशतकीय पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने कहा, ‘यह वास्तव में बहुत अच्छा अहसास है। खुद अच्छा प्रदर्शन करना और टीम को बेहतर स्कोर तक पहुंचाना संतोषजनक रहा। हमें लग रहा था कि हमें और स्कोर बनाना चाहिए था लेकिन इस स्कोर का बचाव किया जा सकता था। हमारे गेंदबाजों की जिम्मेदारी थी कि वे इसका बचाव करें और वे इसमें सफल रहें। विराट शानदार खिलाड़ी है और उसे जल्दी आउट करना महत्वपूर्ण रहा।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 27, 2016 2:04 am

सबरंग