January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

IND vs NZ इंदौर टेस्ट: लाजवाब प्रदर्शन के बाद भी संतुष्ट नहीं हैं रविचंद्रन अश्विन

रविंद्र जडेजा से मिल रहे सहयोग के बारे में अश्विन ने कहा कि वह स्पिनरों की मददगार पिचों पर सीधी गेंद डालकर बल्लेबाजों को परेशान करने में माहिर है।

Author इंदौर | October 11, 2016 02:04 am

न्यूजीलैंड के खिलाफ श्रृंखला में अब तक 20 विकेट ले चुके भारतीय ऑफ स्पिनर आर अश्विन ने इस यादगार प्रदर्शन के बावजूद कहा कि अपने स्पैल के शुरुआती चरण में वह लय हासिल करने के लिए जूझ रहे हैं। अश्विन ने सोमवार (10 अक्टूबर) को 81 रन देकर छह विकेट लिए जिससे न्यूजीलैंड टीम 299 रन पर आउट हो गई। उन्होंने कहा,‘मेरे लिए अच्छी लय हासिल करना बहुत जरूरी है। इस श्रृंखला के दौरान मुझे शुरुआती स्पैल में वह लय नहीं मिल रही है। मुझे कुछ ओवर जमने में लग रहे हैं जिसके बाद ही अच्छी गेंदबाजी कर पा रहा हूं।’

उन्होंने कहा,‘यह अच्छी लय हासिल करने की बात है और मैं इसी की कोशिश कर रहा हूं। लय में होने पर मैं दुनिया के किसी भी बल्लेबाज को परेशान कर सकता हूं। मैं एक रणनीति के साथ इस श्रृंखला में आया था जिसकी शुरुआत पिछले साल बेंगलुरु में केन विलियमसन के विकेट के साथ हुई। मैं इस श्रृंखला में भी उसे दोहराया।’ मोहम्मद शमी और उमेश यादव को विकेट नहीं मिल सके लेकिन अश्विन ने दोनों तेज गेंदबाजों की तारीफ की। उन्होंने कहा,‘गेंदबाजी के लिए यह काफी कठिन विकेट है और उनका सहयोग बहुत जरूरी था। दोनों ने सुबह उम्दा गेंदबाजी की। उमेश ने दिन भर काफी तेज गेंदबाजी की। उम्मीद है कि दूसरी पारी में उन्हें विकेट मिलेंगे।’

रविंद्र जडेजा से मिल रहे सहयोग के बारे में उन्होंने कहा कि वह स्पिनरों की मददगार पिचों पर सीधी गेंद डालकर बल्लेबाजों को परेशान करने में माहिर है। उन्होंने कहा,‘यह जड्डू की ताकत है और वह इसे बखूबी करता है।’ अश्विन ने फालोआन नहीं देने की भारत की रणनीति को सही ठहराते हुए कहा कि वह और जडेजा दोनों लंबे स्पैल के बाद काफी थक गए थे। उन्होंने कहा,‘जड्डू और मैने 30.30 ओवर फेंके लिहाजा फॉलोआन देकर फिर गेंदबाजी करना मुश्किल था। अभी काफी समय बाकी है लिहाजा बल्लेबाजी करने का फैसला सही था।’

उन्होंने कोच अनिल कुंबले से मिली सीख की भी तारीफ की। उन्होंने कहा,‘हमने क्रिकेट पर अच्छी बातचीत की है और इस पर भी चर्चा की है कि अलग अलग बल्लेबाजों पर भी बात की। जब हम लंच या चाय के लिए जाते हैं तब वह अलग अलग सुझाव देते हैं। यदि कोई अच्छी बल्लेबाजी कर रहा है तो फील्ड और गेंदबाजी को लेकर अलग-अलग सुझाव जरूरी होते हैं।’ उन्होंने कहा,‘उदाहरण के लिए ईडन गार्डन पर अनिल ने चाय ब्रेक के समय सुझाव दिया था कि टाम लैथम को वाइड गेंद डालूं और यह रणनीति काम कर गई। मुझे उनसे बातचीत में बहुत मजा आता है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 10, 2016 11:30 pm

सबरंग