December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

राजकोट की पिच पर बिफरे पूर्व इंग्लिश कप्तान माइकल वॉन, कहा-टेस्ट क्रिकेट के लायक नहीं है यह विकेट

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच पिछले साल खेले गए टेस्ट सीरीज के दौरान भी माइकल वॉन ने भारतीय पिचों की आलोचना की थी। माइकल वॉन ने तब नागपुर की पिच को शैतान करार दिया था।

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने राजकोट की विकेट की आलोचना करते हुए कहा है कि यह विकेट टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए उपयुक्त नहीं है। (File Photo)

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने राजकोट की पिच को टेस्ट क्रिकेट खेलने लायक नहीं बताया है। जहां एक ओर इसी विकेट पर इंग्लैंड की टीम ने 537 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया और उसके जवाब में भारत ने भी अच्छी शुरूआत की है वहीं, इंग्लैंड टीम के पूर्व कप्तान को विकेट में खामी नज़र आई है। गौरतलब है कि बुधवार को इंग्लैंड ने राजकोट में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था, जिसके बाद उसके तीन बल्लेबाजों जो रूट, मोइन अली और बेन स्टोक्स ने शानदार शतक जड़ इंग्लैंड को भारत के खिलाफ उसके घर में 31 साल बाद सबसे बड़ा स्कोर खड़ा करने में मदद की थी।

भारत की तरफ से भी चेतेश्वर पुजारा और मुरली विजय ने शानदार शतक लगाया और इस दौरान पिच बल्लेबाजी के अनुकूल ही लगा। इस बीच माइकल वॉन ने राजकोट की पिच को टेस्ट क्रिकेट के लिए उपयुक्त नहीं बताया है। माइकल वॉन ने ट्विटर पर कहा, ‘राजकोट की यह पिच टेस्ट क्रिकेट खेलने के अनुकूल नहीं है। यह गेंद और बल्ले के साथ बराबर न्याय नहीं करती है।’ यह पहला मौका नहीं है जब वॉन ने भारतीय विकेटों की बुराई की हो। इससे पहले भी वो भारत और न्यूजीलैंड के बीच टी20 मैच के दौरान पिच की आलोचना की थी।

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच पिछले साल खेले गए टेस्ट सीरीज के दौरान भी माइकल वॉन ने भारतीय पिचों की आलोचना की थी। गौरतलब है कि इस सीरीज के दौरान नागपुर टेस्ट में भारत ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरा टेस्ट 24 रन से जीत लिया, लेकिन यहां के जामठा स्टेडियम की टर्न लेती पिच को लेकर बवाल मचा। यह स्टेडियम विदर्भ क्रिकेट एसोसिएशन का है। इसकी पिच पर ढाई दिन में ही 40 विकेट गिरे। इनमें से 33 विकेट तो सिर्फ स्पिनर्स ने लिए। माइकल वॉन ने तब इस पिच को बेहद खराब और शैतान करार दिया था।

वीडियो: टेस्‍ट मैचों की मेजबानी करने वाला दुनिया का 120वां स्‍टेडियम बना राजकोट का मैदान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 1:15 pm

सबरंग