ताज़ा खबर
 

ICC World T20: इंग्लैंड के खिलाफ अफगानिस्तान कर सकता है उलटफेर

इंग्लैंड ने 2010 में खिताब जीता था। लेकिन विश्व कप के मुकाबलों में उसका प्रदर्शन उतार-चढ़ाव भरा ही रही है। ऐसे में अफगानिस्तानी बल्लेबाजों पर अंकुश लगाना कड़ी चुनौती होगी।
अफगानिस्तान के खिलाड़ी। (पीटीआई फोटो)

नई दिल्ली, 22 मार्च। विश्व कप टी 20 मुकाबले में अफगानिस्तान के लिए खोने के लिए कुछ भी नहीं है। जीत से जरूर टीम का मनोबल ऊंचा होगा और भविष्य में बेहतर प्रदर्शन की उसे प्रेरणा मिलेगी और टीम अगर हारती है तो उससे भी वह सबक जरूर सीखना चाहेगा। फीरोज शाह कोटला मैदान पर बुधवार को उसका सामना इंग्लैंड से होगा तो उसका लक्ष्य बड़ा उलटफेर करना होगा। इस छोटे प्रारूप में अफगानिस्तान ने कई बार अपने प्रदर्शन से चौंकाया है। ग्रुप के पिछले मैच में उसने दक्षिण अफ्रीका को परेशानी में डाला था। दो सौ रन बनाने के बाद भी दक्षिण अफ्रीका की जीत आसान नहीं रही थी और अफगानिस्तान के बल्लेबाजों ने उनके गेंदबाजों की जम कर कूटाई की थी और 172 रन बना लिए थे। जाहिर है कि इंग्लैंड के लिए भी अफगानिस्तान परेशानी खड़ी कर सकती हैं।

हालांकि दक्षिण अफ्रीका पर शानदार जीत दर्ज कर इंग्लैंड की टीम पटरी पर लौटी जरूर है लेकिन उसे अपनी गेंदबाजी पर खास ध्यान होगा। पहले मैच में वेस्ट इंडीज ने गेल की अगुआई में उनके गेंदबाजों की जम कर धुनाई की थी और फिर दक्षिण अफ्रीका ने भी उनकी गेंदबाजी को बौना साबित कर दिया था। हालांकि दोनों ही मैचों में इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया। खास कर उनका टॉप ऑडर्र लय में है। दोनों ही मैचों में जेसन राय और एलेक्स हेल्स ने बेहतरीन शुरुआत दिलाई। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तो इन दोनों की लप्पेबाजी ने ही टीम को पटरी पर ला दिया था। दोनों ने पहले दो ओवर में ही 44 रन कूट कर टीम को बेहतरीन शुरुआत दिलाई। बाद में जो रूट ने अपनी चमकदार पारी से टीम को जीत दिलाई। रूट ने सिर्फ 44 गेंदों पर 83 रनों की पारी खेली। उनकी इस पारी की बदौलत ही इंग्लैंड अभी टूर्नामेंट में बना हुआ है। लेकिन गेंदबाजी इंग्लैंड की चिंता का सबब है। अफगानिस्तान के खिलाफ उनको जीत का देवादार माना जारहा है। आंकड़े और प्रदर्शन के लिहाज से यह गलत भी नहीं है लेकिन बुधवार को उनके गेंदबाजों को बेहतरीन प्रदर्शन करना होगा। क्योंकि अब तक का उनका प्रदर्शन ऐसा नहीं है, जिसे लेकर टीम बहुत उत्साहित नजर आए।

इंग्लैंड ने 2010 में खिताब जीता था। लेकिन विश्व कप के मुकाबलों में उसका प्रदर्शन उतार-चढ़ाव भरा ही रही है। ऐसे में अफगानिस्तानी बल्लेबाजों पर अंकुश लगाना कड़ी चुनौती होगी। पिछले मैच में दक्षिण अफ्रीका को उसके बल्लेबाजों ने परेशानी में डाला था। यह जानना भी कम दिलचस्प नहीं हैं कि अफगानिस्तान के दो बल्लेबाज ग्रुप के टाप स्कोरर में शामिल हैं। मोहम्मद असगर 194 रन बना कर दूसरे टाप स्कोर हैं तो कप्तान असगर स्टैनकिजई 124 रन बना कर चौथे स्थान पर हैं। रूट दूसरे स्थान पर हैं। शहजाद और नूर अली जरदान बेहतरीन लय में हैं और बड़े शाट लगा सकते हैं। इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए ये परेशानी का सबब बन सकते हैं। इन दोनों के अलावा कप्तान असगर व गुलबदीन नायक भी ताबड़तोड़ करने में माहिर हैं। टीम की बड़ी कमजोरी अनुभव का नहीं होना है।

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज डेविड विले और रीस टोपले के दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ प्रदर्शन बहुत ही खरीब रहा था और इनकी गेंदों पर काफी रन बने थे। क्रिस जोर्डन और बेन स्टोक्स भी काफी महंगे साबित हुए थे। लेकिन इंग्लैंड के स्पिन गेंदबाजों मोईन अली और आदिल राशिद ने बेहतरीन गेंदबाजी कर टीम को संकट से उबारा था। लेकिन रन इन दोनों ने भी काफी दिए थे। हो सकता है कि इंग्लैंड अपने तेज गेंदबाजी संयोजन में बदलाव करे और लियाम प्लंकेट को अफगानिस्तान के खिलाफ उतारे। एक जीत और एक हार से इंग्लैंड पांच टीमों के ग्रुप में चौथे स्थान पर है और बुधवार को मिली जीत से वह निश्चित रूप से तालिका में ऊपर आएगी।

पहली बार सुपर दस चरण में जगह बनाने वाली कमजोर अफगानिस्तान हालांकि श्रीलंका और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दोनों मैच गंवा चुकी है। लेकिन हार के बावजूद इन दोनों मैचों में उसने काफी बेहतर जज्बा दिखाया। टीम भले ही दो हार के बाद सेमीफाइनल की दौड़ से लगभग बाहर हो गई हो, लेकिन वह दूसरी टीमों को परेशानी में तो डाल ही सकती है। अफगानिस्तान का लक्ष्य फिलहाल इंग्लैंड के खिलाफ बड़ा उलटफेर करने का होगा। मैच दोपहर तीन बजे से शुरू होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग