December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

IND vs ENG 2nd Test: पुजारा ने किया अपने बेहतरीन फॉर्म का खुलासा, कोच कुंबले को दिया क्रेडिट

पुजारा ने 119 रन की शतकीय पारी खेली और साथ ही कप्तान विराट कोहली (नाबाद 151 रन) के साथ तीसरे विकेट के लिए 226 रन की भागीदारी निभायी।

Author विशाखापत्तनम | November 17, 2016 19:14 pm
विशाखापत्तनम में दूसरे टैस्ट मैच के दौरान इंग्लैंड के खिलाफ शॉट खेलते भारत के सलामी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा। (REUTERS/Danish Siddiqui/17 Nov, 2016)

चेतेश्वर पुजारा अपनी जिंदगी की सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में हैं और उनका कहना है कि उन्होंने अपनी तकनीक में कोई बदलाव नहीं किया है लेकिन मुख्य कोच अनिल कुंबले की सलाह पर इरादे में निश्चित रूप से बदलाव किया है। भारत के तीसरे नंबर के खिलाड़ी की कैरेबियाई दौरे के दौरान धीमी बल्लेबाजी की काफी आलोचना की गयी थी लेकिन उन्होंने लौटने के बाद जोरदार वापसी करते हुए पांच टेस्ट मैचों में लगातार तीन शतक और साथ ही तीन अर्धशतक जड़े। पुजारा ने कहा, ‘जहां तक तकनीक का संबंध है तो मैंने ज्यादा कुछ बदलाव नहीं किया है। यह सिर्फ इच्छा है। न्यूजीलैंड के खिलाफ जिस तरह मैंने शुरुआत की, मैं सैकड़े से करीब से चूक गया। मैंने अनिल भाई से बात की और उन्होंने कहा कि मैं जिस तरह से बल्लेबाजी कर रहा हूं, उसमें कुछ भी गलत नहीं है। मैं शायद एक ही चीज ‘अपने इरादे’ में सुधार कर सकता हूं और मैंने इसी पर काम किया।’ पुजारा ने 119 रन की शतकीय पारी खेली और साथ ही कप्तान विराट कोहली (नाबाद 151 रन) के साथ तीसरे विकेट के लिए 226 रन की भागीदारी निभायी।

उन्होंने कहा, ‘छक्के के साथ शतक पूरा करना मेरे लिए विशेष था। जैसा कि मैंने पहले टेस्ट में अच्छी शुरुआत की थी और घरेलू मैदान पर एक शतक बनाना मेरे लिये विशेष था। मैं अपनी इसी शानदार फॉर्म को जारी रखकर इसका पूरा फायदा उठाना चाहता था। मैं और विराट लंबी साझेदारी बनाना चाहते थे और यह टीम के लिये अहम भी है।’ पुजारा ने अपने स्ट्रोक्स खेले और दो छक्के जमाये जिसमें एक मिडविकेट के ऊपर था। इसकी बदौलत उन्होंने अपना 11वां टेस्ट शतक पूरा किया जबकि कोहली आराम से बल्लेबाजी कर रहे थे, उन्होंने एक भी छक्का नहीं जड़ा। उन्होंने कप्तान की तारीफ करते हुए कहा, ‘वह (विराट) अपने शॉट खेलना चाहता है। मैं हमेशा उनकी बल्लेबाजी का लुत्फ उठाता हूं। वह दबदबा बनाना चाहता है। हम हालात का पूरा फायदा उठाना चाहते थे। मुझे उनके साथ बल्लेबाजी करने में मजा आया।’
पुजारा पहले सत्र में 22 रन के स्कोर पर दो बार रन आउट होने से बचे। लेकिन उन्होंने माना कि संवाद की कोई कमी नहीं थी। उन्होंने कहा, ‘पहले सत्र में हम एक एक रन को अच्छी तरह नहीं समझ सके। हमने लंच ब्रेक में बात की। अगर आप दूसरा सत्र देखोगे तो हमारी रनिंग पहले से कहीं बेहतर हो गयी थी। लंच टाइम के बाद चीजें बेहतर हो गयीं।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 17, 2016 7:14 pm

सबरंग