December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

अब SMS के जरिए मिलेगी टीडीएस कटौती की जानकारी, जानिए- इस सेवा से जुड़ी 7 बातें

सरकार ने कर्मचारियों को एक नई सुविधा देते हुए टीडीए कटौती के बारे में एसएमएस भेजकर जानकारी देने का फैसला किया है।

कर विभाग ने वेतनभोगियों को ई-फिलिंग अकाउंट में अपने संपर्क नंबर अपडेट करने को कहा है ताकि उन्हें इस सेवा का फायदा मिल सके।

सरकार ने कर्मचारियों को एक नई सुविधा देते हुए टीडीए कटौती के बारे में एसएमएस भेजकर जानकारी देने का फैसला किया है। बताया जा रहा है कि अब आयकर विभाग एसएमएस के जरिए ही टीडीएस कटौती की जानकारी दे देगा। इस सेवा की शुरुआत 24 अक्टूबर को की गई थी और अब वेतनभोगी कर्मचारियों को टीडीएस कटते हुए मैसेज के द्वारा जानकारी मिल जाएगी। आज हम आपको इस सर्विस से जुड़ी कई अहम बातों के बारे में बताएंगे, जिसके बारे में आपको शायद ही पता होगा।

1. इस सेवा के लॉन्च होने के बाद करीब 2.5 करोड़ करदाताओं को इसका फायदा मिलेगा और इनकम टैक्स आपको पूरी जानकारी देगा, जिसका मिलान आप सैलरी स्लिप से कर सकते हैं और आपको पता चल जाएगा कि आपकी कंपनी या नियोक्ता ने पैसे जमा करवाए है या नहीं और कितने करवाए हैं।

2. कर विभाग ने वेतनभोगियों को ई-फिलिंग अकाउंट में अपने संपर्क नंबर अपडेट करने को कहा है ताकि उन्हें इस सेवा का फायदा मिल सके।

3. करदाताओं ने इस फैसले का स्वागत किया है और कहा है कि इस पारदर्शिता आएगी। क्लियर टैक्स पोर्टल के चीफ एडिटर प्रीति खुराना ने कहा है कि ज्यादातर ऐसा होता है कि आपकी सैलरी से टीडीएस काट लिया जाता है, लेकिन इसे या तो गलत पैन में जमा कर दिया जाता है या नियोक्ता जमा नहीं करते है और उन्हें दिक्कत होती है।

4.टेक्स एक्सपर्ट्स का कहना है कि टीडीएस मिसमैच होना सबसे आम समस्या है.

5. इससे कर्मचारी को सबकुछ पता रहेगा और वो इसे ट्रेस करके सबकुछ पता कर सकता है और कोई दिक्कत होने पर अपने नियोक्ता से बात कर सकता है। पहले कर्मचारी को एक साल का इंतजार करना पड़ता था और फॉर्म 16 की मदद से आगे की कार्रवाई करनी होती थी, लेकिन वो उसी वक्त इसकी जानकारी रख सकते हैं।

6. कर विभाग की वेबसाइट से फॉर्म 26 एएस डाउनलोड करके टीडीएस और अन्य पेमेंट की जानकारी हासिल की जा सकती है।

7.अब कर्मचारियों को इस बात की जानकारी हर तिमाही मिलती रहेगी कि उनका टीडीएस कितना कटा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 5:29 pm

सबरंग