ताज़ा खबर
 

डिजिटल पेमेंट फर्म मोबीक्विक मार्च तक 1000 लोगों को देगी नौकरी

डिजिटल पेमेंट फर्म मोबीक्विक ने कहा कि वो 50 करोड़ रुपये निवेश करेंगे और बाजार में अपने कदम बढ़ाने के लिए जल्द ही 1000 लोगों की भर्ती भी की जाएगी।
बता दें कि नोटबंदी के बाद एक रिपोर्ट में सामने आया है कि साल 2020 तक, बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में शामिल होने के लिए 9 लाख लोगों की आवश्यकता होगी।

नोटबंदी के बाद से डिजिटल पेमेंट इंडस्ट्री लगातार आगे बढ़ रही है और इसमें ई-वॉलेट के कारोबार ने खूब तरक्की की है। ई-वॉलेट कंपनियां जमकर बिजनेस कर रही है तो अब इस फील्ड में नई नौकरियों के दरवाजे भी खुल रहे हैं। हाल ही में डिजिटल पेमेंट फर्म मोबीक्विक ने कहा कि वो 50 करोड़ रुपये निवेश करेंगे और बाजार में अपने कदम बढ़ाने के लिए जल्द ही 1000 लोगों की भर्ती भी की जाएगी। साल 2018 तक करीब 15 करोड़ यूजर का लक्ष्य बनाकर आगे बढ़ रही कंपनी इसी साल के शुरुआती महीनों में देश के 13 शहरों में अपने दफ्तर खोलने जा रही है, जिसके लिए कंपनी कई लोगों की भर्ती करेगी।

मोबीक्विक के को-फाउंडर उपासना ताकु ने कहा कि हम क्षेत्रीय जरुरतों को पूरा करने के लिए नए ऑफिस खोलने के लिए 50 करोड़ रुपये निवेश करने जा रहे हैं, जिसके लिए टेक्नीकल और नॉन-टेक्नीकल आवश्यकता के लिए 1000 उम्मीदवारों की भर्ती करेंगे। इन नए शहरों की सूची में मुंबई, पुणे, बेंगलुरु, कोलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, अहमदाबाद, नोएडा, लखनऊ, विजयवाड़ा, कोच्चि, जयपुर और चंडीगढ़ शहर शामिल है। उपासना टाकु ने ये भी कहा कि नोटबंदी के बाद हमने आश्चर्यजनक ग्रोथ देखी है और हम अपनी विस्तार योजनाओं के लिए हमारे लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कतारबद्ध हैं।

बता दें कि नोटबंदी के बाद एक रिपोर्ट में सामने आया है कि साल 2020 तक, बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में शामिल होने के लिए 9 लाख लोगों की आवश्यकता होगी। टीम लीज सर्विसेज की एक रिपोर्ट के अनुसार अगले साल बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में 15 से 20 फीसदी तक ज्यादा भर्तियां होंगी।वहीं पेटीएम ने भी यह कहा है कि वो 20,000 सेल्स प्रोफेशनल्स को हायर करने का सोच रही है। कंपनी ने पिछले महीने 1500 लोगो को हायर किया है। ऑक्सीजन वॉलेट पचास हजारसेल्स प्रोफेशनल्स , 200 इंजीनियर और 500 सुपरविसिंग एजेंट की नियुक्ति करना चाहता है।

पीएम मोदी डिग्री विवाद: CIC ने DU से 1978 के रिकॉर्ड दिखाने का दिया निर्देश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.