ताज़ा खबर
 

अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा 8 साल के कार्यकाल में एक बार भी पाकिस्‍तान क्‍यों नहीं गए?

नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति ट्रंप ने पाकिस्‍तानी पीएम नवाज शरीफ के साथ दुर्लभ खुशमिजाजी दिखाई है।
व्‍हाइट हाउस में बैठक के दौरान पाकिस्‍तानी पीएम व अमेरिकी राष्‍ट्रपति। (Source: Reuters)

”व्‍हाइट हाउस में प्रवेश के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा कभी पाकिस्‍तान क्‍यों नहीं गए?” जब मीडिया ने यह सवाल पूछा तो व्‍हाइट हाउस के प्रेस सचिव ने जवाब दिया, ”इट्स कॉम्प्लिकेटेड (यह मुश्किल है)”। एक दिन पहले ही, पाकिस्‍तान सरकार की विज्ञप्ति के अनुसार, अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कथित तौर पर पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री से कहा था कि पाकिस्‍तान ‘कमाल का देश’ है। व्‍हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्‍ट ने कहा, ”अमेरिका के पाकिस्‍तान के ऐसे जो रिश्‍ते हैं, वह जटिल हैं। खासतौर से जब आप हमारे राष्‍ट्रीय सुरक्षा हितों से परे जाने पर ध्‍यान देते हैं।” उन्‍होंने आगे कहा, ”दोनों देशों के बीच रिश्‍ते, विशेष रूप से पिछले आठ सालों में मृदु नहीं रहे– लगातार मृदु नहीं रहे, खासतौर से पाकिस्‍तानी जमीन पर छापेमारी के बाद, जिसका आदेश राष्‍ट्रपति ओबामा ने आेसामा बिन लादेन को बाहर निकालने के लिए दिया था।” पाकिस्‍तानी सरकार ने एक विज्ञप्ति में कहा कि, वाशिंगटन और इस्‍लामाबाद के ठंडे रिश्‍तों से अलग, नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति ट्रंप ने पाकिस्‍तानी पीएम नवाज शरीफ के साथ दुर्लभ खुशमिजाजी दिखाई है।

पाकिस्‍तान के पत्र सूचना विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है, ”प्रधानमंत्री द्वारा पाकिस्‍तान की यात्रा पर निमंत्रित किए जाने पर, ट्रंप ने कहा कि वह ऐसे शानदार देश, जो शानदार लोगों की जगह हो, आना जरूर पसंद करेंगे।” व्‍हाइट हाउस के प्रेस सचिव ने कहा कि ‘अपने राष्‍ट्रपति काल के दौरान एक समय’, ओबामा ने पाकिस्‍तान जाने की इच्‍छा जाहिर की थी। लेकिन ”कई कारणों की वजह से, जो कुछ पिछले आठ सालों में काफी समय तक दोनों देशों के बीच जटिल रिश्‍तों से जुड़े थे, ”राष्‍ट्रपति ओबामा अपनी इच्‍छा पूरी नहीं कर सके।”

वाशिंगटन इस बात से नाखुश है कि इस्‍लामबाद अपने यहां पैदा हुए आतंकी नेटवर्कों जैसे- हक्‍कानी नेटवर्क, मसूद अजहर और हाफिज सईद पर कार्रवाई नहीं करता। इस साल मई में अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजें‍टेटिव्‍स ने पाकिस्‍तान को दी जाने वाली सैन्‍य सहायता पर प्रतिबंध बढ़ाने के लिए वोट किया था। सदन ने कहा था कि वह हक्‍कानी नेटवर्क पर इस्‍लामाबाद द्वारा कार्रवाई की असफलता से निराश है।

व्‍हाइट हाउस प्रेस सचिव ने इस बात को स्‍वीकार किया कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति को पाकिस्‍तान की कूटनीतिक यात्रा के लिए कभी सही समय नहीं मिला।

बराक ओबामा बोले- ट्रंप का मिजाज व्‍हाइट हाउस में उनके काम नहीं आएगा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग