December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

डोनाल्ड ट्रंप जीते तो हो सकता है भारत को नुकसान, बदल सकती हैं ये अमेरिकी नीतियां

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि अगर वो राष्ट्रपति बने तो आतंकवाद प्रभावित देशों से आने वाले प्रवासियों पर अंकुश लगा देंगे।

राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

अमेरिका का अगला राष्ट्रपति कौन बनेगा ये अब से कुछ ही देर में साफ हो जाएगा। अभी तक मिले रुझान में रिपब्लिकन पार्टी के डोनाल्ड ट्रंप आगे चल रहे हैं। ट्रंप का चुनाव प्रचार काफी विवादित रहा था। उन्होंने चुनाव जीतने पर अमेरिका की कई नीतियों को बदलने की बात कही है। आइए देखते हैं कि ट्रंप चुनाव जीतते हैं तो किन नीतियों में बदलाव कर सकते हैं। डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव प्रचार में प्रवासियों का मुद्दा प्रमुखता से छाया रहा। संभव है कि राष्ट्रपति बनते ही वो अवैध रूप से अमेरिका में रहने वाले प्रवासियों को उनके देश वापस भेजने की शुरुआत कराएं। एक ताजा अध्ययन के अनुसार अमेरिका में करीब एक लाख साठ हजार अवैध प्रवासी हैं। लेकिन ट्रंप ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि अमेरिका में 20 लाख अवैध प्रवासी हैं। ट्रंप आतंकवाद प्रभावित इलाकों से आने वाले प्रवासियों पर भी अंकुश लगा सकते हैं। ट्रंप ने अमेरिका की दक्षिणी सीमा से आने वाले प्रवासियों पर भी रोक लगाने की बात कही है।

डोनाल्ड ट्रंप ने अपने प्रचार के दौरान कहा था कि वो नाटो के सहयोगी देशों को सैन्य मदद पर भी अंकुश लगा सकते हैं। ट्रंप ने कहा है कि अगर वो जीते तो अमेरिका उन्हीं देशों की सैन्य मदद करेगा जो उसकी शर्तें मानेंगे। दूसरे विश्व युद्ध के बाद शायद पहली बार किसी अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने सहयोगी देशों की सैन्य मदद को लेकर ऐसा बयान दिया है। ट्रंप ने अमेरिकी जनता से वादा किया है कि अगर वो जीते तो इराक और लेवांत में इस्लामिक स्टेट पर कहर टूट पड़ेगा। ट्रंप के बयानों से संकेत मिलता रहा है कि वो सीरिया में बशर अल असद सरकार के समर्थक हैं। जबकि मौजूदा अमेरिका प्रशासन बशर विरोधियों को समर्थन दे रहा है।

वीडियो: अभी तक के रुझान में डोनाल्ड ट्रंप हिलेरी क्लिंटन से आगे-

ट्रंप ने पर्यावरण और ऊर्जा क्षेत्र में भी पुरानी अमेरिकी नीति बदलने की बात कही है। ट्रंप ने अमेरिका के क्लाइमेट चेंज प्रोग्राम को दिए जाने अरबों डॉलर की मदद को बंद करने की बात कही है। ट्रंप ने कहा है कि वो इस पैसे को अमेरिका में इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने में खर्च करेंगे।ट्रंप ने अमेरिकी तेल और प्राकृतिक गैस क्षेत्र पर पर लगे प्रतिबंध भी हटाने की बात कही है ताकि इनका उत्पादन बढ़ाया जा सके।

ट्रंप ने कहा है कि ओबामा के दिए हर एक्जिक्यूटिव एक्शन, मेमोरंडम और आर्डर को रद्द कर देंगे। ट्रंप के प्रचार टीम से जुड़े एक सदस्य ने हाल ही में कहा था कि अगर ट्रंप जीतते हैं तो बराक ओबामा द्वारा दिए गए करीब 25 एग्जिक्यूटिव ऑर्डर रद्द किए जा सकते हैं। ट्रंप ओबामा के जिन एग्जिक्यूटिव ऑर्डर को रद्द करने की तरफ इशारा करते रहे हैं उनमें सबसे ऊपर ओबारा द्वारा लायी गई स्वास्थ बीमा योजना है। इस योजना का लाभ एक करोड़ से अधिक अमेरिकयों को मिला था। ट्रंप ने कहा है कि वो इसकी जगह नई स्वास्थ्य बीमा योजना लाएंगे जिस पर अमेरिका सरकार का ज्यादा नियंत्रण होगा।

ट्रंप ने मतदान से दो दिन पहले ही बयान दिया था कि चीन और भारत अमेरिकियों के रोजगार छीन रहे हैं। ऐसे में अगर वो चुनाव जीतते हैं तो अमेरिका से नौकरियों की आउटसोर्सिंग पर भी असर दिखेगा। भारत के सॉफ्टवेयर सेक्टर पर इसका काफी असर पड़ सकता है। नस्ली भेदभाव का लेकर भी ट्रंप का नजरिया काफी रूढ़िवादी रहा है। उन्होंने कालों की हत्या के खिलाफ होने वाले विरोध प्रदर्शनों को कड़ाई से निपटने की बात कही है। समलैंगिक अधिकारों को लेकर भी ट्रंप का नजरिया रूढ़िवादी हैं। उन्होंने साफ तौर पर समलैंगिक विवाहों का विरोध नहीं किया लेकिन वो संकेत दे चुके हैं को वो इसे लेकर सकारात्मक राय नहीं रखते। ट्रंप ने गर्भपात के कारोबार पर भी अंकुश लगाने की बात कही है। हालांकि इस मुद्दे पर ट्रंप अपने बयान बदलते रहे हैं। ट्रंप ने वाशिंगटन में “काला धन” पर रोक लगाने की भी बात कह चुके हैं। ऐसे में अगर वो चुनाव जीते तो अमेरिकी की कई दशकों से चली आ रही कई नीतियों में बदलाव देखने को मिल सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 10:19 am

सबरंग