ताज़ा खबर
 

मसूद अजहर के मामले में अमेरिकी राजनयिक का चीन को साफ़ संकेत

राजनीतिक नियुक्ति के तहत वर्मा का कार्यकाल राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल के साथ ही समाप्त हो जाएगा।
Author वॉशिंगटन | January 20, 2017 15:22 pm
भारत में अमेरिकी राजदूत रिचर्ड वर्मा। (फाइल फोटो)

अमेरिका के एक शीर्ष राजनयिक ने मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंध लगवाने के भारत के प्रयासों को बार बार बाधित करने वाले चीन को स्पष्ट संकेत देते हुए शुक्रवार (20 जनवरी) को कहा कि जैश ए मोहम्मद के प्रमुख को संयुक्त राष्ट्र द्वारा एक आतंकवादी के रूप में नामित किए जाने की भारत की मांग पर ‘तथ्यपरक विचार’ करने वाला कोई भी इस मामले का समर्थन करेगा। भारत में अमेरिका के राजदूत रिचर्ड वर्मा ने नयी दिल्ली में कार्यालय में अपने आखिरी दिन टेलीफोन पर दिए एक साक्षात्कार में कहा, ‘हमें इन आपत्तियों को समझना होगा और उन पर काम करना होगा। इस मामले पर तथ्यपरक विचार करने वाला कोई भी (संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा अजहर को) नामित किए जाने का समर्थन करेगा।’

उन्होंने कहा कि अमेरिका इस बात से निराश है कि सुरक्षा परिषद ने इस मामले को न तो अभी तक पारित किया है बल्कि इस मामले में यदि चीन ‘आतंकवाद का साथ’ देता है तो वह इस पर सीधे तौर पर बात करने से भी बचता रहा है। वर्मा ने कहा, ‘हमने लश्कर एवं जैश ए मोहम्मद में अतिरिक्त समूहों को नामित किया है ताकि इन समूहों पर दबाव बनाया जा सके। हमारा मानना है कि उन्हें (अजहर एवं अन्य) संयुक्त राष्ट्र में नामित करना सही होगा।’ उन्होंने कहा, ‘हम निराश है कि हम अभी तक ऐसा नहीं कर पाए हैं।’ वर्मा ने हालांकि उम्मीद जताई कि डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन इन मामलों में भारत के साथ सहयोग करेगा। उन्होंने कहा, ‘मेरे पास यह मानने का कारण है कि नया प्रशासन (भारत के साथ) समन्वित तरीके से काम करेगा।… लोगों को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह बनाना बहुत महत्वपूर्ण है।’

राजनीतिक नियुक्ति के तहत वर्मा का कार्यकाल राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल के साथ ही समाप्त हो जाएगा। पिछले दो साल से नयी दिल्ली में काम कर रहे वर्मा ने कहा कि ये द्विपक्षीय संबंधों के सर्वश्रेष्ठ वर्ष रहे हैं। पाकिस्तान की ओर से होने वाली आतंकवादी गतिविधियों के संबंध में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में वर्मा ने कहा कि बराक ओबामा ने पाकिस्तान के साथ ईमानदारी से और मुश्किल बातचीत की है। उन्होंने कहा, ‘आतंकवाद अमेरिका, भारत के लोगों और सच कहूं तो पाकिस्तान के लोगों के सामने मौजूद सबसे बड़ा खतरा है और हमें इसके खिलाफ एकजुट होकर खड़े होना होगा। इस समस्या से कोई एक देश नहीं निपट सकता। हम सीमा पार आतंकवाद को रोकने के लिए भारत में हमारे मित्रों के साथ एकजुट रहे हैं।’ वर्मा ने कहा कि भारत एवं अमेरिका अधिक खुफिया अधिक जानकारी साझा कर रहे हैं और द्विपक्षीय संबंध और मजबूत हो रहे हैं।

‘अग्नि’ मिसाइल से बौखलाए चीन ने कहा- “हम कर सकते हैं पाकिस्तान की मदद”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.