December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

इस्राइल और फलस्तीन के बीच समझौते की संभावनाओं के खत्म होने का खतरा है: बान की मून

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की..मून ने कहा है कि इस्राइल और फलस्तीन के बीच के समझौते की संभावनाओं के खत्म होने के खतरे को देखते हुये अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह स्पष्ट करना होगा कि वह दोनों देशों के बीच शांति वार्ता के लिए प्रतिबद्ध है।

Author संयुक्त राष्ट्र | November 30, 2016 11:00 am
सयुंक्त राज के महासचिव बान की मून

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की..मून ने कहा है कि इस्राइल और फलस्तीन के बीच के समझौते की संभावनाओं के खत्म होने के खतरे को देखते हुये अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह स्पष्ट करना होगा कि वह दोनों देशों के बीच शांति वार्ता के लिए प्रतिबद्ध है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के रूप में बान का 10 वर्ष का कार्यकाल एक महीने में समाप्त होने जा रहा है। बान ने संघर्ष को लेकर 193-सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा की एक बैठक से पहले कल जारी एक बयान में कहा कि समझौते के लिए बातचीत करने के दो असफल प्रयास समेत हाल के वर्षों की घटनाओं और सशस्त्र संघर्ष ने फलस्तीन और इस्राइल को समान रूप से निराश और हताश किया है। संयुक्त राष्ट्र के वार्षिक ‘‘फलस्तीनी लोगों के साथ एकजुटता के अंतरराष्ट्रीय दिवस’’ पर महासभा की बैठक आयोजित की गई थी।

आपको बता दें कि इससे पहले बान की मून ने कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास हालात ‘खराब होने’ पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए क्षेत्र में स्थिरता बहाली की अपील की और कहा कि विश्व संस्था ‘स्थायी’ शांति एवं सुरक्षा हासिल करने के ‘सभी प्रयासों’ का समर्थन करती है। संयुक्त राष्ट्र ने अपने प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में कहा, ‘महासचिव हाल के दिनों में कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास हालात बिगड़ने को लेकर बहुत चिंतित हैं।’ बयान में कहा गया, ‘वह सभी संबंधित पक्षों से शांति एवं स्थिरता की बहाली को प्राथमिकता देने की अपील करते हैं ताकि तनाव और नहीं बढ़े तथा और अधिक लोगों की जान नहीं जाए।’ इसमें कहा गया है कि बान ‘को भरोसा है कि भारत एवं पाकिस्तान साझा आधार खोज सकते हैं और स्थायी शांति स्थापित करने की दिशा में काम कर सकते हैं।’ बयान में कहा गया, ‘संयुक्त राष्ट्र इलाके के लोगों के साथ खड़ा है और स्थायी शांति एवं सुरक्षा स्थापना के सभी प्रयासों का समर्थन करता है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 30, 2016 10:56 am

सबरंग