ताज़ा खबर
 

डोनाल्‍ड ट्रंप ने संयुक्‍त राष्‍ट्र पर उठाए सवाल, कहा- यह अच्‍छा समय बिताने का क्‍लब बन गया है

डोनाल्ड ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र की प्रभावक्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह केवल लोगों के ‘अच्छा समय बिताने’ का एक क्लब है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

डोनाल्ड ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र की प्रभावक्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह केवल लोगों के ‘अच्छा समय बिताने’ का एक क्लब है। संयुक्त राष्ट्र परिषद के शुक्रवार को पश्चिमी तट और पूर्वी यरूश्लेम में इस्राइल के समझौतों के विरोध में मत डालने के बाद ट्विटर पर कल एक पोस्ट में नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ने यह बात कही।   ट्रंप ने कहा कि ‘एक महान शक्ति’ है लेकिन यह ‘‘लोगों के लिए मिलने, बात करने और अच्छा समय बिताने का एक क्लब बन गया है लिहाजा यह बहुत दुखद है। शुक्रवार को ट्रंप ने चेतावनी दी थी कि ‘ 20 जनवरी के बाद संयुक्त राष्ट्र में चीजें पहले जैसी नहीं होंगी। 20 जनवरी को ट्रंप अमेरिकी राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालेंगे।    ट्रंप ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि वह इस्राइल-फलीस्तीन मुद्दों पर ‘बहुत निष्पक्ष’ होना चाहते हैं। प्रचार के आगे बढ़ने के साथ-साथ निश्चित तौर पर उनका लहजा इस्राइल समर्थक होता गया।
गौरतलब है कि इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार (22 दिसंबर) को परमाणु बम पर ट्वीट करके सबको चिंता में डाल दिया। ट्रंप ने ट्वीट में लिखा, ‘युनाटेड स्टे्स को गर्व के साथ तबतक अपनी परमाणु शक्ति को बढ़ाते रहना चाहिए जबतक दुनिया की परमाणु के बारे में आंखें ना खुल जाएं।’ ट्रंप का यह कमेंट असल में रूस के राष्ट्रपति वल्दामीर पुतिन के ट्वीट का जवाब था। पुतिन ने अपने ट्वीट में कहा था कि अगले साल में रूस अपने परमाणु हथियार की शक्तियों को बढ़ाने की तरफ ध्यान देगा। ट्रंप का यह बयान चिंता में इसलिए भी डालता है क्योंकि ट्वीट के एक दिन पहले ही यानी बुधवार को ही वह पेंटागन और रक्षा क्षेत्र के कुछ अधिकारियों से मिले थे।

अगर ट्रंप ने सच में राष्ट्रपति बनने के बाद परमाणु हथियारों को बढ़ाते हैं तो उनका यह फैसला बराक ओबामा की रणनीति के बिल्कुल उल्टा होगा। 2009 में ओबामा ने साफ किया था कि यूएस परमाणु हथियार बनाने की होड़ को खत्म करने की दिशा में काम करेगा।हालांकि, ऐसा भी नहीं है कि ओबामा के कहने के बाद अमेरिका परमाणु क्षेत्र में सक्रीय था ही नहीं। यूएस अब भी अपने परमाणु हथियारों को अपग्रेड करने का काम करता है। इस साल ही रक्षा सचिव एशटॉन कार्टर ने बताया था कि यूएस अपनी परमाणु क्षमता को बनाए रखने और उसके विकास के लिए अगले पांच सालों में $108 बिलियन डॉलर खर्च करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग