ताज़ा खबर
 

संयुक्त राष्ट्र ने उ. कोरिया पर लगाए और कड़े प्रतिबंध

प्रस्ताव के तहत गैस, डीजल और भारी ईंधन तेल में 55 फीसद तक कटौती करने से उत्तर कोरिया को मिलने वाले तेल में 30 फीसद तक की कमी आएगी।
Author संयुक्त राष्ट्र | September 13, 2017 03:47 am
उत्तर कोरिया के प्रशासक किम जोंग-उन (Reuters Photo)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उत्तर कोरिया पर अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध लगाने वाले प्रस्ताव को सर्वसम्मति से मंजूरी दे दी है। इसमें उसके परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाने के लिए तेल आयात और तेल निर्यात पर पाबंदी भी शामिल है। तीन सितंबर को उत्तर कोरिया द्वारा छठे और सबसे बड़े परमाणु परीक्षण के जवाब में यह कदम उठाया गया है।  संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने कहा, ‘आज, हम दुनिया को यह बता रहे हैं कि हम कभी भी परमाणु हथियारों से लैस उत्तर कोरिया को स्वीकार नहीं करेंगे। आज, सुरक्षा परिषद का कहना है कि अगर उत्तर कोरिया शासन ने अपना परमाणु कार्यक्रम बंद नहीं किया, तो हम उसे रोकने के लिए खुद कदम उठाएंगे।’ इस प्रस्ताव को 15 सदस्यीय सुरक्षा परिषद ने सर्वसम्मति से सोमवार को मंजूरी दे दी।

भारतवंशी राजनयिक ने कहा, ‘हमने कोशिश की कि शासन सही काम करे। अब हम गलत कार्य करते रहने की क्षमता हासिल करने से उसे रोकने के लिए कदम उठा रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि इसके लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार कार्यक्रमों को ईंधन और धन मुहैया करवाने वाले साधनों को निशाना बना रहा है।अमेरिका ने उत्तर कोरिया द्वारा तेल आयात पर पूर्ण प्रतिबंध सहित कई कठोर प्रतिबंध लगाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन, उत्तर कोरिया के सहयोगी रूस और चीन के प्रावधान को घटाने पर सहमति के बाद ही सर्वसम्मति से प्रस्ताव को पारित किया गया। अमेरिकी राजदूत ने जिक्र कियाकि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार बनाने और वितरित करने में तेल की मुख्य भूमिका है। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव के तहत गैस, डीजल और भारी ईंधन तेल में 55 फीसद तक कटौती करने से उत्तर कोरिया को मिलने वाले तेल में 30 फीसद तक की कमी आएगी। उन्होंने कहा, ‘आज का प्रस्ताव प्राकृतिक गैस और तेल के अन्य सह-उत्पादों पर पूरी तरह रोक लगाता है, जिनका इस्तेमाल पेट्रोल घटने की स्थिति में विकल्प के तौर पर किया जा सकता है। इससे गहरा प्रभाव पड़ेगा।’ हेली ने कहा कि उत्तर कोरिया पर लगाया गया यह अब तक का सबसे कड़ा प्रतिबंध हैं। उन्होंने कहा, ‘उन्होंने सरकार को अपने परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम को पोषित करने की क्षमता को रोकने के लिए बहुत अवसर दिए। लेकिन हम सब जानते हैं कि ये सभी उपाय तभी काम कर पाएंगे जब सारे देश इसे पूरी तरह और मजबूती से लागू करेंगे।’

पिछले महीने पारित प्रतिबंधों के साथ ही यह नई सख्त पाबंदी जुड़ने से उत्तर कोरिया का सार्वजनिक रूप से होने वाला 90 फीसद से अधिक आयात अब पूरी तरह प्रतिबंधित हो गया है। वस्त्र निर्यात उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा आर्थिक सेक्टर है। इस पर पहले प्रतिबंध नहीं लगाया गया था। इससे पिछले तीन साल में उत्तर कोरिया को औसतन 76 करोड़ डॉलर की आय हुई।प्रस्ताव में अपेक्षा की गई है कि यह उत्तर कोरिया के साथ सभी संयुक्त उपक्रमों को रोकेगा। इससे सरकार को इस तरह के इंतजामों से पैदा होने वाले राजस्व से भी वंचित रहना पड़ेगा। भविष्य में सभी तरह के विदेशी निवेश और तकनीकी स्थानांतरण पर भी रोक लग जाएगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.