December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

संराष्ट्र राहत प्रमुख ने अलेप्पो को बताया ‘किल ज़ोन’, रूस ने लगाया अहंकारी होने का आरोप

ओ’ब्रायन ने कहा था कि पूर्वी अलेप्पो में एक ओर घोर खाद्यान्न संकट है वहीं दूसरी ओर सीरियाई और रूसी बलों की बमबारी जारी है।

Author संयुक्त राष्ट्र | October 27, 2016 20:50 pm
अलेप्पो शहर के पूर्वी छोर पर स्थित तारिक अल-बाब में हवाई हमले के बाद का नजारा। (रॉयटर्स फाइल फोटो

रूस ने सीरियाई शहर अलेप्पो को ‘किल जोन’ कहे जाने के लिए संयुक्त राष्ट्र के राहत प्रमुख की आलोचना करते हुए उन पर पक्षपातपूर्ण रवैया अपनाने और अहंकारी होने का आरोप लगाया है। संयुक्त राष्ट्र के राहत प्रमुख स्टीफन ओ’ब्रियन ने बुधवार (26 अक्टूबर) को सुरक्षा परिषद में कहा था कि रूसी और सीरियाई बमबारी के चलते अलेप्पो ‘किल जोन’ बन गया है। रूस पर लगे आरोप के बाद अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने सीरिया पर हुए सुरक्षा परिषद के सत्र में कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की। रूस पर संयुक्त राष्ट्र की ओर से उसके सीरियाई सहयोगी पर लगाम कसने और विद्रोहियों की पकड़ वाले पूर्वी अलेप्पो में हवाई हमले रोकने के लिए दबाव पड़ रहा है। पूर्वी अलेप्पो में जुलाई से करीब 2,50,000 नागरिक फंसे हुए हैं। संयुक्त राष्ट्र के राहत प्रमुख स्टीफन ओ’ब्रायन ने बुधवार को कहा था कि परिषद के कार्रवाई न कर पाने को लेकर वह अत्यंत व्यथित हैं और इस बात की निंदा करते हैं कि युद्ध रोकने तथा लोगों की तकलीफ दूर करने के लिए वास्तव में कुछ भी नहीं हो रहा है।

ओ’ब्रायन ने कहा था कि पूर्वी अलेप्पो में एक ओर घोर खाद्यान्न संकट है वहीं दूसरी ओर सीरियाई और रूसी बलों की बमबारी जारी है। ‘अगर लोग आज बमबारी से बच भी जाएं तो वह कल भूख से मर जाएंगे।’ उन्होंने कहा कि रूसी और सीरियाई बमबारी के चलते अलेप्पो शहर ‘किल जोन’ बन गया है। रूसी राजदूत विताली चरकिन ने इसे लेकर ओ’ब्रायन पर अंहकारपूर्ण टिप्पणियां करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस बात को राहत प्रमुख महत्व नहीं दे रहे हैं कि रूस ने मानवीय मदद के लिए संघर्षविराम की घोषणा की और आठ दिन से संघर्षविराम चल रहा है। चरकिन ने विपक्षी विद्रोहियों और अलकायदा से जुड़े जिहादियों पर आरोप लगाया कि उनकी वजह से, सप्ताह के अंत में अलेप्पो से घायलों को बाहर निकालने की संयुक्त राष्ट्र की योजना नाकाम हो गई। दमिश्क और मास्को द्वारा घोषित संघर्षविराम शनिवार को अंतरराष्ट्रीय समयानुसार 16 बजे समाप्त हो गया और सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने संघर्षविराम के बाद अलेप्पो में विद्रोहियों की पकड़ वाले हिस्से में हवाई हमले होने की खबर दी थी।

ऑब्जर्वेटरी के अनुसार, कल विद्रोहियों की पकड़ वाले इदलिब प्रांत में हवाई हमलों में एक स्कूल को निशाना बनाया गया जिसमें कम से कम 35 लोग मारे गए। मृतकों में अधिकतर बच्चे हैं। अमेरिकी राजदूत सामंथा पावर ने सुरक्षा परिषद के सत्र में रूस की आलोचना करते हुए कहा कि उसने संघर्ष विराम के दौरान अलेप्पो में मानवीय सहायता सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के साथ कभी सहयोग नहीं किया। पावर ने कहा कि आप (रूस) एक दिन या एक सप्ताह युद्ध अपराध नहीं करने का श्रेय बिल्कुल नहीं ले सकते। उन्होंने आतंकवादियों से लड़ने के मास्को के दावे को एक बार फिर चुनौती देते हुए कहा कि रूसी और सीरियाई बमबारी के कारण नागरिकों का धैर्य टूट रहा है।

Video : जनसत्ता की पूरी टीम की तरफ से आप सबको दिवाली और धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 27, 2016 8:50 pm

सबरंग