ताज़ा खबर
 

अफगानिस्तान: तालिबानी आतंकियों ने दो महिला सैनिक अधिकरियों को उतारा मौत के घाट, गांव पहुंचते ही मारी गोली

तालिबानी आतंकियों ने अपने लड़कियों की शिक्षा पर प्रतिबंध लगा रखा था। इसके अलावा उन लोगों ने महिलाओं के घर से बाहर काम करने पर भी बैन लगा रखा था।
अफगान तालिबान के आतंकी। (चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।)

उत्तरी अफगानिस्तान के बदख्शां प्रांत में तालिबानी आतंकियों ने दो महिला सैनिक अफसरों को गोली मार दी है। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। यह वाकया बुधवार का है, जब दोनों महिला सैनिक अधिकारी अर्गो जिले में स्थित स्पिन गुल गांव में अपने घर पहुंची थीं। हालांकि, अभी तक तालिबान ने ना तो इस हमले की जिम्मेदारी ली है और ना ही इस घटना पर कोई प्रतिक्रिया दी है।

गौरतलब है कि तालिबानी आतंकियों ने अपने यहां लड़कियों की शिक्षा पर प्रतिबंध लगा रखा था। इसके अलावा उन लोगों ने महिलाओं के घर से बाहर काम करने पर भी बैन लगा रखा था।

गौरतलब है कि अभी हाल ही में अफगानिस्तान में पहला महिला टीवी चैनल शुरू किया गया है। सोलह सालों से जंग और दशहतगर्दी का दंश झेल रहे अफगानिस्तान के लोगों को हाल ही में यह बेहतरीन तोहफा मिला है। इतने साल बाद अफगानिस्तान को मिला ये गिफ्ट लोगों की जिंदगी में खुशियों के पल भरकर लाया है। खास बात ये है कि इस चैनल को पूरी तरह से महिलाएं ही चलाती हैं। चैनल की एंकर तो महिला है हैं, प्रोड्यूसर, कॉपी राइटर, मेकअप वूमेन भी महिलाएं ही हैं।

हालांकि टेक्निकल काम के लिए पुरुष स्टाफ महिलाओं की मदद कर रहे हैं। तालिबानियों का कट्टरपंथ झेल चुके अफगानिस्तान के लिए ये चैनल किसी उपलब्धि से कम नहीं है। वूमेन्स टीवी नाम के इस चैनल एक आम अफगानी शहरी की जिंदगी में कई बदलाव ला दिये हैं। जहां पहले यहां के लोग जंग, धमाका और तालिबान से जुड़ी खबरें देखते रहते थे अब उन्हें संगीत, सीरियल, ड्रामा, टॉक शोज और कई तरह की चीजें देखने को मिलती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग