ताज़ा खबर
 

कुलभूषण के बाद पाकिस्तान ने POK से गिरफ्तार किए तीन ‘रॉ एजेंट’, धमाके की प्लानिंग का लगाया आरोप

रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि एक सर्च अॉपरेशन में 3 रॉ एजेंट और एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है, जो अब्बासपुर बम धमाकों का मास्टरमाइंड है।
भारतीय नेवी के पूर्व अफसर कुलभूषण जाधव।

भारतीय नेवी के पूर्व अफसर कुलभूषण यादव को सजा-ए-मौत के एेलान के बाद पाकिस्तान ने पीओके के पास तीन लोगों को अरेस्ट किया है, जिन्हें रॉ एजेंट बताया जा रहा है। पाकिस्तानी मीडिया ने शनिवार को यह दावा किया। रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि एक सर्च अॉपरेशन में 3 रॉ एजेंट और एक शख्स को गिरफ्तार किया गया है, जो अब्बासपुर बम धमाकों का मास्टरमाइंड है। रावलकोट के डीआईजी सज्जाद हुसैन ने इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि ये तीनों आदमी भारत की खुफिया एजेंसी रॉ के लिए काम करते हैं। जियो न्यूज से बातचीत में सज्जाद ने कहा हमने तीन आतंकियों-खलील, इम्तियाज और राशिद को गिरफ्तार किया है। इन लोगों ने कई भारतीय अफसरों जैसे मेजर रंजीत, मेजर सुल्तान और कई अन्य अफसरों के नाम लिए हैं, जिनके साथ ये लोग संपर्क में थे।

हुसैन ने पाकिस्तानी मीडिया को बताया कि इन लोगों का काम चाइना-पाकिस्तान इकनॉमिक कॉरिडोर (CPEC) में रुकावट और संयुक्त मिलिट्री अस्पताल में धमाके करना था। स्थानीय मीडिया ने बताया कि खलील नाम के एक आरोपी ने 14 बार एलओसी पार की है। पुलिस ने मीडिया को बताया कि खलील ने भारतीय पक्ष से आईईडी हासिल की, जिसे उसने बाद में अब्बासपुर पुलिस स्टेशन में लगा दिया। रिपोर्ट्स यह भी हैं कि खलील को इस काम के लिए 5 लाख रुपये मिले थे।

आपको बता दें कि कुलभूषण जाधव मामले पर अब भारत ने भी सख्ती दिखानी शुरू कर दी है। भारत ने पाकिस्तान के साथ सभी तरह की द्विपक्षीय बातचीत बंद कर दी है। दोनों देशों को समुद्री सुरक्षा के लिए 17 अप्रैल को एक मीटिंग करनी थी। लेकिन शुक्रवार (14 अप्रैल) को भारत ने आधिकारिक तौर पर पाकिस्तान को यह संदेश भेज दिया कि भारत ऐसी किसी बातचीत के लिए फिलहाल तैयार नहीं है। यह भी कहा गया कि भारत पाकिस्तान के किसी भी डेलिगेशन को यहां नहीं बुलाना चाहता। पाकिस्तानी समुद्री सुरक्षा एजेंसी (PMSA) के लोग रविवार को भारत आने वाले थे।

कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में मौत की सजा मिलने पर भारत का कड़ा रुख; रोकी पाकिस्तानी कैदियों की रिहाई, देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.