December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

सुरंग में रह रहा है आईएस चीफ अबु बक्र अल-बगदादी, साथ रखता है आत्मघाती जैकेट, साथियों पर करता है शक, एक दर्जन करीबियों को मार चुका है

आईएस चीफ अबु बक्र अल-बगदादी नियमित तौर पर अपने यातायात के साधन, रहने की जगह और संचार माध्यम भी बदलता रहता है।

इस्‍लामिक स्‍टेट(आईएसआईएस) के प्रमुख अबू बकर अल बगदादी (Photo Source: Reuters)

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आतंकवादी संगठन आईएसआईएस का प्रमुख अबु बक्र अल-बगदादी अपनी जान बचाने के लिए एक सुरंग में रह रहा है और वो अपने साथ हमेशा एक आत्मघाती जैकेट रखता है। बगदादी इराक के मोसुल में छिपा हुआ है। मोसुल को आईएसआईएस का गढ़ माना जाता है। अमेरिका समर्थित इराकी सेना पिछले महीने से ही मोसुल शहर पर निर्णायक हमला जारी रखे हुए है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स और मेलऑनलाइन की रिपोर्टों के अनुसार बगदादी इस समय इतना डरा हुआ है कि उसने अपने करीब एक दर्जन करीबियों को दुश्मनों के लिए जासूस करने के आरोप में जान से मार दिया है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले महीने उसने अपने एक करीबी कमांडर समेत 50 लोगों को डुबो कर मार दिया गया क्योंकि उनके मोबाइल सिम कार्ड से पता चला था कि वो संयुक्त सैन्य बल से संपर्क में थे। इस संयुक्त सैन्य बल में इराकी, कुर्दिश और अमेरिकी सैनिक शामिल हैं।

बगदादी की ताजा हालात के बारे में नवंबर के शुरुआत में तब जानकारी सामने आना शुरू हुई जब एक खबरी ने इराकी खुफिया एजेंसियों को मोबाइल संदेश भेजकर बताया कि बगदादी आपा खो रहा है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स द्वारा देखे गए इन संदेशों के अनुसार बगदादी अब कहीं आता-जाता नहीं है और अपने हुलिए पर भी ध्यान नहीं देता। संदेश के अनुसार बगदादी एक सुरंग में सोता है जो कई जगहों पर निकलती है। वो अपना आत्मघाती जैकेट हमेशा अपने साथ रखता ताकि अगर वो पकड़ा जाए तो खुद को विस्फोट से उड़ा सके। साल 2014 में बगदादी ने इराक और सीरिया के बड़े इलाके पर कब्जा करने के बाद खुद को मुसलमानों का खलीफा घोषित किया था। एक समय आईएसआईएस का इराक के एक तिहाई हिस्से पर कब्जा हो गया था लेकिन इराकी सेना ने धीरे-धीरे बड़ा इलाका वापस पा लिया। अमेरिका समर्थित संयुक्त सैन्य बल ने आईएसआईएस के कब्जे वाले आखिरी बड़े शहर मोसुल को आजाद कराने के लिए 17 अक्टूबर को निर्णायक हमला शुरू किया था जो अभी जारी है।

कुर्दिश रीजनल गर्वनमेंट (केआरजी) के प्रमुख मसरूर बारजानी के अनुसार बगदादी इस समय अपनी जान बचाने के लिए हर तरह के पैंतरे इस्तेमाल कर रहा है। वो नियमित तौर पर अपने यातायात के साधन, रहने की जगह और संचार माध्यम भी बदलता रहता है। इराकी अधिकारियों के अनुसार बगदादी इसलिए भी डरा हुआ क्योंकि पिछले महीने उसके एक करीबी कमांडर और अन्य साथियों ने उसके खिलाफ साजिश रची थी जिसका बगदादी को समय रहते पता चल गया था। बगदादी के सुरक्षाकर्मियों को एक सिम मिला था जिसमें साजिश में शामिल लोगों के नाम थे। बगदादी ने साजिश रचने की कोशिश करने वाले 58 लोगों को मौत के घाट उतार दिया। इराकी अधिकारियों के अनुसार आईएसआईएस ने 42 स्थानीय कबायलियों को भी मार डाला क्योंकि उनके पास से सिम कार्ड बरामद हुए थे।

मोसुल में रहने वालों खुफिया एजेंसियों को बताया कि आईएसआईएस के आतंकियों ने जगह-जगह पर नाके बना रखे हैं जहां लोगों की तलाशी ली जाती है। जिस किसी के पास कोई सिम कार्ड या अन्य इलेक्ट्रानिक यंत्र पाया जाता है आईएसआईएस के आंतकी तुरंत उसे मौत के घाट उतार देते हैं। हालांकि आईएसआईएस के कई गिरफ्तार आतंकी इराकी खुफिया एजेंसियों को गुप्त सूचनाएं देते रहते हैं। वहीं आईएसआईएस के कब्जे वाले इलाके में फंसे कई आम नागरिप भी संयुक्त सैन्य बलों की मदद कर रहे हैं।

वीडियोः जाकिर नाइक पर कुछ आतंकियों को प्रेरित करने का आरोप है-

वीडियो- कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी पर की पीएम नरेंद्र मोदी की आलोचना- 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 6:30 pm

सबरंग