ताज़ा खबर
 

देश को ‘सेक्‍युलर’ बनाने के लिए ताजिकिस्‍तान सरकार ने कटवाई 13 हजार लोगों की दाढ़ी 

इस कवायद को अधिकारी 'कट्टरपंथ' से लड़ने का तरीका करार दे रहे हैं। ताजिकिस्‍तान की लीडरशिप पड़ोसी मुल्‍क अफगानिस्‍तान की परंपराओं को देश में जड़ जमाने से रोकने की कोशिश कर रही है।
ताजिकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति रहमान ने देश में कई ऐसे कदम उठाए हैं, जिसकी वजह से वे चर्चाओं में हैं। (FILE)

मुस्‍ल‍िम बहुल मध्‍य एशियाई देश ताजिकिस्‍तान में पुलिस ने करीब 13 हजार लोगों की दाढ़ी कटवा दी है। इसके अलावा, 160 से ज्‍यादा उन दुकानों को बंद करवा दिया है जो पारंपरिक मुस्‍लिम लिबास बेचते थे। यहां की सरकार ने यह कदम पिछले साल उठाया। न्‍यूज वेबसाइट अलजजीरा ने यह खबर दी है। रिपोर्ट के मुताबिक, यहां की सरकार ने दलील दी है कि ‘विदेशी प्रभाव’ को खत्‍म करने के लिए यह कदम उठाया गया है। दक्षिण पश्‍च‍िमी खाथलन रीजन की पुलिस के प्रमुख बहराम शरीफजादा ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में बताया कि सरकारी एजेंसियों ने करीब 1700 महिलाओं और लड़कियों को सिर पर स्‍कार्फ न पहनने के लिए राजी किया। गैर आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, ताजिकिस्‍तान के 2 हजार से ज्‍यादा लोग सीरिया में जंग लड़ रहे हैं।

इस कवायद को अधिकारी ‘कट्टरपंथ’ से लड़ने का तरीका करार दे रहे हैं। ताजिकिस्‍तान की लीडरशिप पड़ोसी मुल्‍क अफगानिस्‍तान की परंपराओं को देश में जड़ जमाने से रोकने की कोशिश कर रही है। बीते हफ्ते देश की संसद ने सुनने में अरबी लगने वाले ‘विदेशी’ नाम रखने और सीधे चचेरे और ममेरे रिश्‍तेदारी में शादी पर बैन लगाने के लिए वोट डाला। इससे जुड़े कानून को देश के राष्‍ट्रपति एमोमाली रहमान जल्‍द ही मंजूरी दे सकते हैं। रेडियो लिबर्टी की खबर के मुताबिक, राष्‍ट्रपति ने देश में सेक्‍युलेरिज्‍म को बढ़ावा देने की दिशा में कई कदम उठाए हैं। वहीं, बीते साल सितंबर महीने में ताजिकिस्‍तान की सुप्रीम कोर्ट ने देश की एकलौती रजिस्‍टर्ड मुस्‍लिम राजनीतिक पार्टी को बैन कर दिया था। रहमान 1994 से ही देश पर शासन कर रहे हैं। उनका वर्तमान कार्यकाल 2020 में खत्‍म होगा।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. P
    praheladbhai prajapati
    Jan 22, 2016 at 1:13 am
    मुस्लिम्मो ने दुनिया को बदनाम कर दिया और लोगोका जीना हराम करदिया सभी आतकवादी मुस्लिम क्यों होते है ,इस से कोई खुदा मिलने का कोई प्रमाण ही नहीं है ,जब इस जिंदगीमे शांति नहीं तो फि मरनेके बादकी क्या खात्री है की वहा भी शुख और शान्ति मिलेगी ,स्वर्ग और यही पर ही है शांति से जिओ और दूसरोंको जीने दो यही खुदाकी सच्ची सेवा है
    (0)(0)
    Reply
    1. S
      Shrikant Sharma
      Jan 22, 2016 at 2:43 pm
      बहुत ही जल्दी भारत में भी मुसलमानों को खुश करने के लिए और जो अिष्णु अपने उसेलेस्स ईनाम वापस कर रहे हैं उनकी नज़रों में चढ़ने के लिए हिन्दू मान्यताओं की बाली दी जाएगी.बगलोर में दलित के नाम पर दबाव बढ़ा कर मोदी के ५६ इंच के सीने को चुनौती दी जा रही है क्युओं की पाक ने तो पूरा पूरा भ्रष्ट तंत्र खरीद लिया है इसी के रबी प्रिंटेड नोटों की चलन के द्वारा जो अब लाखों करोंडो में पहुचने वाला है,कोंग्रेस्स पोषित रबी के गवर्नर को बनाये रख कर यही मैसेज जा रहा है.
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग