ताज़ा खबर
 

लंदन में स्वीडन के अधिकारी असांजे से कर सकते हैं पूछताछ: इक्वाडोर

विकीलीक्स संस्थापक असांजे ने जून 2012 से लंदन स्थित इक्वाडोर दूतावास में शरण ले रखी है।
Author क्विटो | August 11, 2016 15:17 pm
विकीलीक्स संस्थापक जूलियन असांजे। (REUTERS/Peter Nicholls/File Photo)

इक्वाडोर ने गुरुवार (11 अगस्त) को कहा कि वह लंदन स्थित अपने दूतावास पर स्विस अधिकारियों को जूलियन असांजे से मिलने की अनुमति देगा। विकीलीक्स संस्थापक असांजे ने जून 2012 से वहां शरण ले रखी है। एक वक्तव्य में विदेश मंत्रालय ने बताया कि इक्वाडोर सरकार को लंदन में क्विटो के दूतावास में स्वीडिश अधिकारियों के साथ बैठक के लिए एक पत्र भेजा गया है। वक्तव्य में कहा गया है, ‘बैठक आने वाले सप्ताहों में होगी।’ स्वीडन के अभियोजक असांजे से 2010 में उनके खिलाफ लगे बलात्कार के आरोप के सिलसिले में पूछताछ करना चाहते हैं।

45 वर्षीय असांजे ने जून 2012 में लंदन स्थित इक्वाडोर के दूतावास में तब शरण मांगी थी जब स्वीडन को अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ वह ब्रिटेन में सारे कानूनी विकल्पों का इस्तेमाल कर चुके थे। असांजे को डर है कि अगर उन्हें मुकदमे का सामना करने के लिए स्वीडन भेजा गया तो विकीलीक्स के हजारों गोपनीय दस्तावेजों के प्रकाशन को लेकर मुकदमे का सामना करने के लिए उन्हें अमेरिका प्रत्यर्पित किया जा सकता है और उन्हें लंबे कारावास या मौत की सजा का सामना करना पड़ सकता है।

असांजे ने बुधवार (10 अगस्त) को स्टॉकहोम जिला अदालत के उस फैसले के खिलाफ अपील की थी जिसमें बलात्कार के आरोपों को लेकर उनके खिलाफ यूरोपीय गिरफ्तारी वारंट को कायम रखा गया था। उनके वकील टॉमस ओलसन ने कहा, ‘हमने फैसले के खिलाफ अपील की है ताकि उन्हें अनुपस्थिति में हिरासत में रखा जाए।’ असांजे के वकीलों ने कहा है कि इसी वजह से वह अभियोजकों द्वारा पूछताछ किए जाने के लिए स्वीडन जाने से मना करते हैं।

मनमाने हिरासत पर संयुक्त राष्ट्र के एक कार्य समूह ने पांच फरवरी को अपने गैर बाध्यकारी फैसले में कहा कि इक्वाडोर के दूतावास में असांजे का बंद रहना स्वीडन और ब्रिटेन द्वारा उन्हें मनमाने तरीके से हिरासत में रखने के समान है। ब्रिटेन और स्वीडन दोनों ने संयुक्त राष्ट्र समूह के निष्कर्षों के प्रति आपत्ति जताई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.