December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

महान वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंग की चेतावनी- मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा साबित हो सकती है मशीनी बुद्धि

विश्‍व-प्रसिद्ध वैज्ञानिक ने कई बार ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर सवाल खड़े किए हैं।

विश्व के जानेमाने भौतिकशास्त्री स्टीफन हाकिंग (एपी फोटो)

ब्रिटिश भौतिकशास्‍त्री स्‍टीफन हॉकिंग ने चेतावनी दी है कि शक्तिशाली ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का सृजन ‘मानवता के लिए सबसे बड़ी आपदा’ साबित हो सकती है, भले ही इसके कितने ही फायदे क्‍यों न नजर आते होंं। विश्‍व-प्रसिद्ध वैज्ञानिक ने कई बार ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर सवाल खड़े किए हैं। उन्‍होंने चिंता जताई कि मानवता अपने विनाश की वजह खुद बनेगी अगर वह एक सुपर इंटेलिजेंस तैयार करती है जिसमें खुद फैसले लेने की क्षमता हो। कैंब्रिज विश्‍वविद्यालय के लिवरह्यूम सेंटर फॉर द फ्यूचर ऑफ इंटेलिजेंस के उद्घाटन पर बोलते हुए हॉकिंग ने ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बारे में सकरात्‍मक बातें भी गिनाईं। हॉकिंग ने इंटेलिजेंस पर रिसर्च के लिए समर्पित इस शैक्षणिक संस्‍थान की भी तारीफ की और कहा कि यह ”हमारी सभ्‍यता और हमारी प्रजाति के भविष्‍य के लिए महत्‍वपूर्ण है।” इससे पहले हॉकिंग ने एक नई ऑनलाइन फिल्म में कहा था कि किसी भी अधिक उन्नत सभ्यता से हमारे संपर्क की स्थिति में कुछ वैसा ही हो सकता है जब मूल अमेरिकियों ने पहली बार क्रिस्टोफर कोलंबस को देखा और चीजें बहुत अच्छी नहीं रही। ‘स्टीफन हॉकिंग्स फेवरिट प्लेसेज’ में लोग ब्रह्मांड के पांच अहम स्थानों को देख सकते हैं। फिल्म में हॉकिंग काल्पनिक तौर पर ग्लिज 832सी के पास से गुजरते हैं। यह करीब 16 प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित गैर-सौरीय ग्रह हैं, जहां संभावित तौर पर जीवन हो सकता है।

वीडियो में देखें जेडीयू विधायक की गुंडई: 

हॉकिंग ने कहा, ”एक दिन हो सकता है हमें ग्लिज सी 832 जैसे ग्रह से सिग्‍नल मिल जाए। लेकिन हमें जवाब देने से बचना चाहिए। वे ज्‍यादा ताकतवर होंगे और हमें बै‍क्‍टरीया से ज्‍यादा कुछ नहीं समझेंगे। जैसे-जैसे मैं बड़ा हुआ मुझे पहले से ज्‍यादा विश्‍वास हुआ कि हम अकेले नहीं हैं। लंबे समय तक चकित होने के बाद मैं इन्‍हें ढूंढ़ने में मैं मदद कर रहा हूं।” पहली बार नहीं है जब हॉकिंग ने एलियंस के दुश्‍मन होने की चेतावनी दी है। हॉकिंग ने कहा कि कोई भी सभ्‍यता जो हमारे संदेश पढ़ रही है वह मनुष्‍यों से अरबों साल आगे हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 7:51 pm

सबरंग