ताज़ा खबर
 

वैज्ञानिकों को डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के दौरान ‘प्रतिभा पलायन’ का भय: सर्वेक्षण

सर्वेक्षण के अनुसार करीब 51.74 प्रतिशत का मानना है कि विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित शिक्षा ट्रंप प्रशासन के तहत कोई प्राथमिकता नहीं होगी।
Author वॉशिंगटन | November 12, 2016 20:19 pm
अमेरिका के निर्वाचित राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप। (फाइल फोटो)

अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप के देश का 45वां राष्ट्रपति निर्वाचित होने के बाद वैज्ञानिकों को अमेरिकी विश्वविद्यालयों में शिक्षा ग्रहण करने वाले विदेशों में जन्मे अनुसंधानकर्ताओं के देश छोड़ने की आशंका है। यह बात एक नए सर्वेक्षण में आयी। इस सर्वेक्षण में उद्योग एवं अकादमिक क्षेत्र से जुड़े 1600 पेशेवरों को शामिल किया गया। इसमें यह बात सामने आयी कि ट्रंप के कार्यकाल के दौरान अनुसंधान वित्तपोषण के साथ ही विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (एसटीईएम) शिक्षा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने की आशंका है। करीब 57.11 प्रतिशत का मानना है कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति ट्रंप अनुसंधान वित्तपोषण को नुकसान पहुंचाएंगे। करीब 24 प्रतिशत ने कहा कि इससे कोई असर नहीं पड़ेगा जबकि मात्र 9.79 प्रतिशत ने कहा कि ट्रंप का कार्यकाल सकारात्मक साबित होगा।

जिनेटिक इंजीनियरिंग एंड बायोटेक्नोलॉजी न्यूज (जीईएन) के सर्वेक्षण के अनुसार करीब 51.74 प्रतिशत का मानना है कि विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित शिक्षा ट्रंप प्रशासन के तहत कोई प्राथमिकता नहीं होगी। जीईएन की संस्थापक एवं सीईओ मैरी एन लिबर्ट ने कहा, ‘जैव प्रौद्योगिकी उद्योग प्रतिभा पलायन की आशंका का सामना कर रहा है और यह बहुत ही चिंताजनक है।’ करीब 46.78 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे मानते हैं कि विदेशों में जन्मे वैज्ञानिक जिन्होंने अमेरिका में शिक्षा ग्रहण की है उनके ट्रंप के कार्यकाल के दौरान देश छोड़ने की उम्मीद है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.