ताज़ा खबर
 

दाऊद इब्राहिम और हाफिज सईद के प्रत्यर्पण को लेकर लगी RTI पर मिला ये जवाब

सूचना के अधिकार के तहत विदेश मंत्रालय से पूछा गया था कि मुंबई आतंकी हमले के सरगना हाफिज सईद और 1993 के मुंबई विस्फोटों में वांछित दाऊद इब्राहीम के प्रत्यर्पण या भारत लाने के बारे क्या कार्रवाई की गई है।
Author नई दिल्ली | May 15, 2017 01:29 am
विदेश मंत्रालय को हाफिज सईद और दाऊद इब्राहिम के प्रत्यर्पण को लेकर जांच एजेंसियों से कोई आग्रह प्राप्त नहीं हुआ है। (File Photo)

विदेश मंत्रालय को मुंबई आतंकी हमले के सरगना हाफिज सईद और 1993 में मुंबई में सिलसिलेवार विस्फोटों के मामले में वांछित दाऊद इब्राहीम के प्रत्यर्पण व उसे भारत लाने के बारे में देश में इन मामलों की जांच कर रही जांच एजंसियों से कोई आग्रह नहीं प्राप्त हुआ है। सूचना के अधिकार (आरटीआइ) के तहत विदेश मंत्रालय के प्रत्यर्पण प्रकोष्ठ के बाकी पेज 8 पर सीपीवी खंड से यह जानकारी प्राप्त हुई है।  मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, ‘विदेश मंत्रालय को हाफिज सईद और दाऊद के प्रत्यर्पण या भारत लाने के बारे में भारत की संबंधित जांच एजंसियों से कोई आग्रह प्राप्त नहीं हुआ है।ह्ण सूचना के अधिकार के तहत विदेश मंत्रालय से पूछा गया था कि मुंबई आतंकी हमले के सरगना हाफिज सईद और 1993 के मुंबई विस्फोटों में वांछित दाऊद इब्राहीम के प्रत्यर्पण या भारत लाने के बारे क्या कार्रवाई की गई है।

बहरहाल, इस बारे में एक सवाल के जवाब में इसी साल अप्रैल में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि इसमें कोई शक नहीं है कि दाऊद अभी भी कराची में है। पिछले 10 वर्षों में भारत ने दाऊद के बारे में पाकिस्तान को कई डोजियर भेजे हैं। वह मुंबई विस्फोटों समेत 31 मामलों में आरोपी है। इससे पहले पूर्ववर्ती यूपीए सरकार के दौरान मई 2011 में तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम ने भी कहा था कि दाऊद कराची में रहता है और ज्यादा समय वहीं बिताता है। चिदंबरम ने कहा था कि भारत 2008 के मुंबई आतंकी हमले को अंजाम देने वालों को न्याय के कटघरे में खड़ा करने के लिए दबाव बनाना जारी रखेगा। भारत ने पाकिस्तान से 2008 के मुंबई आतंकी हमला मामले की फिर से जांच करने और जमात उद दावा सरगना हाफिज सईद के खिलाफ मामला चलाने को कहा है।

 

पाकिस्तान के साथ मिलकर बैलिस्टिक मिसाइल्स, एयरक्राफ्ट्स बनाएगा चीन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.