ताज़ा खबर
 

RSS को ‘आतंकी संगठन’ घोषित कराने के लिए अमेरिकी अदालत में याचिका

अमेरिकी संघीय अदालत में एक सिख अधिकार संगठन ने वाद दायर कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को ‘‘विदेशी आतंकवादी संगठन’’ घोषित करने की मांग की है। दक्षिणी न्यूयॉर्क जिले में स्थित संघीय अदालत ने वाद पर अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी को सम्मन जारी कर 60 दिन के भीतर जवाब मांगा है। ‘सिख्स फॉर जस्टिस’ […]
Author January 22, 2015 13:18 pm
आरएसएस 14 अगस्‍त को भारत के एकीकरण के लिए अखंड भारत संकल्प दिवस मनाता है। (फाइल फ़ोटो)

अमेरिकी संघीय अदालत में एक सिख अधिकार संगठन ने वाद दायर कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को ‘‘विदेशी आतंकवादी संगठन’’ घोषित करने की मांग की है। दक्षिणी न्यूयॉर्क जिले में स्थित संघीय अदालत ने वाद पर अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी को सम्मन जारी कर 60 दिन के भीतर जवाब मांगा है।

‘सिख्स फॉर जस्टिस’ (एसएफजे) ने अपने वाद में अदालत से आरएसएस को विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित करने की मांग की। उसने आरोप लगाया कि आरएसएस फासीवादी विचारधारा में विश्वास करता है तथा भारत को एक ही प्रकार की धार्मिक और सांस्कृतिक पहचान वाला ‘हिन्दू’ राष्ट्र बनाने के लिए आवेशपूर्ण, विद्वेषपूर्ण तथा हिंसक अभियान चला रहा है।

एसएफजे ने कहा कि आरएसएस ‘‘ईसाइयों और मुसलमानों को जबरन हिन्दू बनाने के लिए’’ अपने अभियान ‘‘घर वापसी’’ के कारण सुर्खियों में बना हुआ है। वाद में अदालत से आग्रह किया गया है कि ‘‘आरएसएस, इससे संबद्ध संस्थाओं और इसके सहयोगी संगठनों को विदेशी आतंकवादी संगठन के रूप में और आरएसएस को विशेष रूप से वैश्विक आतंकी संगठन (एसडीजीटी) के रूप में घोषित किया जाए।’’

आरएसएस पर अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने का आरोप लगाते हुए याचिका में कहा गया है कि ‘‘बाबरी मस्जिद विध्वंस’’, स्वर्ण मंदिर में सेना के अभियान के लिए उकसाने, 2008 में ‘‘गिरजाघरों को जलाने तथा ईसाई ननों से बलात्कार’’ और 2002 में गुजरात दंगों में आरएसएस की संलिप्तता रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    narayan
    Jan 22, 2015 at 10:58 pm
    मै जिसने मांग की है उनको मेरा एक सवाल है आजतक पाकिस्तानने हिन्दुस्तानमे किया ओ क्या ही समाजसेवा या भगवन सेवा उनको फुज़ो फिर बोलो
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग