ताज़ा खबर
 

यूएन में निकाली पाकिस्तान ने भड़ास, कश्मीर को बताया संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी नाकामी

एक बार फिर कश्मीर का राग अलापते हुए पाकिस्तान ने कहा कि घाटी में जनमत-संग्रह कराने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के प्रस्तावों पर अमल नहीं किया जाना संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी नाकामी है ।
Author October 9, 2016 08:28 am
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ। (फाइल फोटो)

एक बार फिर कश्मीर का राग अलापते हुए पाकिस्तान ने कहा है कि घाटी में जनमत-संग्रह कराने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के प्रस्तावों पर अमल नहीं किया जाना संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी नाकामी है । संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोधी ने शनिवार (8 अक्टूबर) को महासभा में ‘स्पेशल पॉलिटिकल एंड डीकोलोनाइजेशन कमिटी’ की एक बहस के दौरान कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर विवाद के समाधान के बगैर संयुक्त राष्ट्र का अनौपनिवेशकरण का एजेंडा अधूरा रहेगा।’ लोधी ने कहा कि कश्मीरी लोगों को आत्मनिर्णय का अधिकार देने के लिए संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में एक जनमत संग्रह कराने का प्रस्ताव संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा पारित किए जाने के छह दशक बीत जाने के बाद भी इसे अमल में नहीं लाया जा सका है। उन्होंने कहा, ‘यह संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी नाकामी है।’ उन्होंने यह भी कहा कि कश्मीरियों ने पीढ़ी दर पीढ़ी सिर्फ टूटे वादे और क्रूर दमन देखे हैं।

लोधी ने जोर देकर यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग ‘‘कभी नहीं था और कभी नहीं हो सकता’, बल्कि वह एक विवादित क्षेत्र है जिसकी अंतिम स्थिति यूएनएससी के कई प्रस्तावों के मुताबिक तय की जानी है। पाकिस्तानी राजनयिक ने कहा कि औपनिवेशिक वर्चस्व और विदेशी कब्जे से जूझ रहे लोगों के प्रति संयुक्त राष्ट्र की एक नैतिक जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा, ‘अधूरे एजेंडे को पूरा करने के लिए काम करने और उपनिवेशवाद के आखिरी निशान को खत्म करने की सख्त जरूरत है। हमें उम्मीद है कि देर-सवेर हम इस साझा लक्ष्य को हासिल कर लेंगे।’

वीडियो: “भारत-पाकिस्तान सीमा को दिसंबर 2018 तक सील कर दिया जाएगा”: गृह मंत्री राजनाथ सिंह

 

Read Also: कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा नहीं, पाकिस्तानी संसद में पारित हुआ प्रस्ताव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 9, 2016 8:28 am

  1. No Comments.