ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान, बांग्लादेश और मलेशिया में रह रहे हिंदुओं पर आई रिपोर्ट, हुए हैरान कर देने वाले खुलासे

अपनी रिपोर्ट में एचएएफ ने अफगानिस्तान, बांग्लादेश, मलेशिया और पाकिस्तान को हिंदू अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का भीषण उल्लंघनकर्ता माना है।
Author June 23, 2017 19:02 pm
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया।

एक सर्वोच्च हिंदू अमेरिकी संस्था की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान और बांग्लादेश जैसे देशों में जहां हिंदू अल्पसंख्यक हैं वहां उन्हें हिंसा, सामाजिक उत्पीड़न और अलग-थलग होने का सामना करना पड़ रहा है। द हिंदू अमेरिका फाउंडेशन (एचएएफ) ने दक्षिण एशिया में हिंदुओं और प्रवासियों पर अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा कि समूचे दक्षिण एशिया और दुनिया के अन्य हिस्सों में रह रहे हिंदू अल्पसंख्यक विभन्न स्तरों के वैधानिक और संस्थागत भेदभाव, धार्मिक स्वतंत्रता पर पाबंदी, सामाजिक पूर्वाग्रह, हिंसा, सामाजिक उत्पीड़न के साथ ही आर्थिक और सियासी रूप से हाशिये वाली स्थित का सामना करते हैं।

अमेरिकी राजधानी में इस हफ्ते की शुरुआत में जारी हुई रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘हिंदू महिलायें खास तौर पर इसकी चपेट में आती हैं और बांग्लादेश तथा पाकिस्तान जैसे देशों में अपहरण और जबरन धर्मांतरण जैसे अपराधों का सामना करती हैं। कुछ देशों में जहां हिंदू अल्पसंख्यक हैं वहां राज्यतर लोग भेदभावपूर्ण और अलगाववादी एजेंडा चलाते हैं जिसके पीछे अक्सर सरकारों का मौन या स्पष्ट समर्थन होता है।’’

अपनी रिपोर्ट में एचएएफ ने अफगानिस्तान, बांग्लादेश, मलेशिया और पाकिस्तान को हिंदू अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों का भीषण उल्लंघनकर्ता माना है। भूटान और श्रीलंका की पहचान गंभीर चिंता वाले देशों के तौर पर की गयी है। रिपोर्ट में भारतीय राज्य जम्मू कश्मीर को भी इसी श्रेणी में रखा गया है।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों पर हमले के ज्यादा मामले सामने आए हैं। पिछले साल अज्ञात शरारती तत्वों द्वारा 15 मंदिरों और 20 से अधिक मकानों में तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई। इस हमले के बाद कई हिंदू परिवार अपने मकानों को छोड़कर चले गए और दूसरे इलाकों में शरण ले ली है।

वहीं ऐसे मामले सबसे ज्यादा पाकिस्तान में भी देखने को मिला है। अभी कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान के थार जिले में एक नाबालिग हिंदू लड़की का कथित तौर पर अपहरण करके उसका धर्मांतरण करा दिया गया। जिसके बाद पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के थार के सांसद तथा पाकिस्तान हिंदू काउंसिल के प्रमुख रमेश कुमार वंकवानी ने लड़की के कथित अपहरण तथा धर्मातरण पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा, “हिंदू विवाह अधिनियम के मुताबिक, 18 साल से कम आयु की हिंदू लड़की का धर्मातरण नहीं किया जा सकता है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग