December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तान की जमीन से उठने वाला आतंकवाद भारत के लिए गंभीर चिंता का विषय: राजनाथ

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बहरीन से कहा सीमा पार से मिल रहा समर्थन जम्मू कश्मीर में मौजूदा अशांति की वजह है।

Author मनामा | October 24, 2016 19:01 pm
मनामा में बहरीन के गृह मंत्री राशिद बिन अब्दुल्ला अल खलीफा से मुलाकात करते केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह। (PTI Photo/24 Oct, 2016)

भारत ने सोमवार (24 अक्टूबर) को बहरीन से कहा कि पाकिस्तान की जमीन से उठने वाला आतंकवाद गंभीर चिंता का कारण बना हुआ है और सीमा पार से मिल रहा समर्थन जम्मू कश्मीर में मौजूदा अशांति की वजह है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बहरीन के गृह मंत्री राशिद बिन अब्दुल्ला अल खलीफा को इस बारे में यहां द्विपक्षीय बैठक में अवगत कराया। बहरीन इस्लामिक कांफ्रेंस के संगठन का महत्वपूर्ण सदस्य है जिसमें कि पाकिस्तान भी एक सदस्य है। खाड़ी देश के तीन दिवसीय दौरे पर आए सिंह ने खलीफा को हिजबुल मुजाहिदीन के मारे गए आतंकी बुरहान वानी का पाकिस्तान द्वारा गुणगान करने और खुले समर्थन के बारे में बताते हुए कहा कि इससे यह संकेत मिलता है कि वहां आतंकवादी और उनके समर्थक किस आजादी से घूमते फिरते हैं। वानी आठ जुलाई को मुठभेड़ में मारा गया था और उसके बाद से कश्मीर घाटी में अशांति है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ऐसा देश है, जिसने शासन नीति के औजार के तौर पर आतंकवाद के इस्तेमाल को छोड़ने से इंकार किया है। गृह मंत्री ने पाकिस्तानी आतंकवादी बहादुर अली की जुलाई में गिरफ्तारी के मुद्दे को उठाया। उसे एलईटी कैंपों में प्रशिक्षण और हथियार मिले और उसके बाद उसे इन निर्देशों के साथ जम्मू कश्मीर में भेजा गया कि वह सुरक्षा बलों पर ग्रेनेड फेंकने के लिए भीड़ में घुलमिल जाए। बताया जाता है कि सिंह ने बहरीन के अपने समकक्ष से कहा, ‘चूंकि आतंकवाद को प्रायोजित करने में पाकिस्तान की नीति में कोई बदलाव नहीं आया है लिहाजा हमारे लिए पाकिस्तान के आतंकवाद पर नियंत्रण करने से जुड़े वादों पर विश्वास करने की कोई वजह नहीं है।’

उल्लेख करते हुए कि जम्मू कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और कोई दखलंदाजी स्वीकार्य नहीं है, सिंह ने कहा कि भारत में केंद्र सरकार के साथ ही जम्मू कश्मीर सरकार और अन्य संबंधित प्राधिकार राज्य में हालात के समाधान में जुटे हुए हैं और स्थानीय आबादी की शिकायतों के निदान के लिए विभिन्न प्रयास किए गए हैं। गृह मंत्री ने उन्हें बताया कि जम्मू कश्मीर के लोगों तक पहुंचने के लिए भारत में पूर्ण राजनीतिक सहमति है और इस संबंध में ठोस प्रगति हुई है। सिंह ने खलीफा को पठानकोट एयरबेस आतंकी हमले में जांच में प्रगति की कमी और पाकिस्तान में मुंबई आतंकी हमले के मुकदमे के बारे में भी बताया। समझा जाता है कि उन्होंने कहा, ‘यह पाकिस्तान के आतंकवाद के प्रति चुनींदा रुख को दिखाता है। हमने पाकिस्तान से कहा है कि हम आतंकवाद की चुनौती के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा को तैयार हैं जो पाकिस्तान की तरफ से हमारी ओर निर्देशित होता है, यह हमारी गंभीर चिंता का कारण है और जम्मू कश्मीर में मौजूदा हालात के केंद्र में है।’ गृह मंत्री ने बहरीन के युवराज सलमान बिन हमाद अल खलीफा से गुदाईबिया पैलेस में मुलाकात की और विभिन्न द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की। सिंह बहरीन के शाह हमाद बिन इसा अल खलीफा, प्रधानमंत्री खलीफा बिन सलमान अल खलीफा से मुलाकात करेंगे। भारतीय समुदाय को रविवार (23 अक्टूबर) रात संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि आतंकवाद वैश्विक समस्या है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस समस्या से निपटने के लिए हाथ मिलाना चाहिए।

कुछ प्रमुख ख़बरों से जुड़े वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 6:54 pm

सबरंग