ताज़ा खबर
 

फिलीपीन में तूफान ने किरकिरा किया ‘क्रिसमस’, 6 की मौत, तबाह हुए मकान

तूफान रविवार रात यहां पहुंचा जिसके कुछ घंटों के बाद मनीला के दक्षिपूर्व में स्थित क्यूजोन प्रांत में जड़ से उखड़े पेड़ की चपेट में आकर एक किसान की मौत हो गई।
Author बटेंगस (फिलीपीन) | December 26, 2016 21:30 pm
उत्तरी मनीला के क्वीज़ोन शहर में नॉक-टेन तूफान की वजह से भारी बारिश के बाद वहीं से गुजरते वाहन। (AP Photo/Aaron Favila/26 Dec, 2016)

फिलीपीन के उत्तरी भाग में आए भीषण तूफान के कारण देश में कम से कम छह लोगों की मौत हुई है और कई प्रांतों में क्रिसमस का मजा किरकिरा हो गया है क्योंकि 3,80,000 से ज्यादा लोगों को त्योहार के दिन अपना घर छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर शरण लेना पड़ा। नॉक-टेन नामक तूफान में बिजली के खंबे उखड़ने तथा पेड़ गिरने से पांच प्रांतों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है, जिसके कारण एशिया के सबसे बड़े कैथेलिक देश में क्रिसमस का सारा मजा किरकिरा हो गया। 300 से ज्यादा उड़ानें रद्द हो गयीं हैं या उनका समय बदल गया है। वहीं नौकाओं को पानी में उतरने से मना कर दिया गया है जिसके कारण 12,000 से ज्यादा पर्यटक फंसे हुए हैं। अधिकारियों का कहना है कि रविवार (25 दिसंबर) की रात तूफान के काटानदुआनेस प्रांत पहुंचने के बाद दक्षिण-पूर्वी मनीला, क्वेजोन और एलबे प्रांतों में डूबने, पेड़ों, खंबों और दीवारों के गिरने से उसके नीचे दबकर छह लोगों की मौत हुई है। सेना का कहना है कि काटानदुआनेस और आसपास के प्रांतों में सैन्य शिविरों और बाहरी चौकियों को नुकसान पहुंचा है तथा कुछ सैनिक घायल भी हुए हैं।

स्थानीय स्तर पर नीना के रूप में पहचाना जाने वाला नॉक-टेन तूफान इसके बाद पश्चिमी दिशा में पर्वतीय एवं द्वीपीय प्रांतों की ओर बढ़ा। यह अपने रास्ते में पड़ने वाले मकानों को बर्बाद करता हुआ, पेड़ों को उखाड़ता हुआ और संचार साधनों को ठप करता हुआ आगे बढ़ा। अधिकारियों ने कहा कि हालांकि यह कुछ हद तक कमजोर हुआ था लेकिन आज सुबह दक्षिण मनीला के बटेंगस और केवाइट जैसे सघन प्रांतों तक पहुंचने पर भी तूफानी हवाओं की गति 130 किलोमीटर प्रति घंटा रही। ऐसा माना जा रहा था कि यह शाम के समय दक्षिण चीन सागर से निकलेगा। तटरक्षक ने कहा कि एक मालवाहक पोत पर सवार चालकदल के सदस्यों ने बटेंगस के पास जैसे ही पोत ने डूबना शुरू किया, मदद मांगने के लिए संकेत भेजे। वहीं एक अन्य पोत माबिनी प्रांत में फंस गया और एक ओर को झुक गया। उन्होंने कहा कि दोनों ही पोतों के चालक दल के सदस्यों को बचाने के लिए उन्होंने पोत भेज दिए हैं।

यह तूफान वर्ष 2014 में आए तूफान हाएयान तूफान के बाद फिलीपीन में आया अब तक का सबसे भीषण तूफान है। वर्ष 2014 के तूफान में 7300 से ज्यादा लोग मारे गए थे या लापता हो गए थे। तब 50 लाख से ज्यादा लोग विस्थापित हो गए थे। लेकिन कई प्रांतों के अधिकारियों को लोगों को उनके क्रिसमस के जश्न को छोड़ने और तूफान आने से पहले आश्रयस्थलों की ओर रवाना होने के लिए मनाने में काफी परेशानी आई। कुछ अधिकारियों ने कहा कि उन्हें लोगों को जबरन निकालना पड़ा। अल्बे में एक शीर्ष आपदा-प्रतिक्रिया अधिकारी सेड्रिक डेप ने फोन पर कहा, ‘कुछ निवासियों ने तब भी अपने घर छोड़ने से इनकार कर दिया, जब मैंने उन्हें बताया कि उन्हें मौत की सजा जैसी स्थिति का सामना करना पड़ सकता है।’ डेप ने कहा कि क्रिसमस डे के दिन शॉपिंग मॉलों और स्टोरों को जल्दी बंद होने का आदेश दिया गया था ताकि लोगों को घरों के अंदर रहने के लिए प्रेरित किया जा सके। ‘लेकिन तूफान के चरम पर होने पर भी कई कारें सड़कों पर थीं और लोग बाहर चहलकदमी कर रहे थे। हमने उन्हें पर्याप्त तरीके से चेतावनी दी थी लेकिन हम उनके दिमाग पर नियंत्रण नहीं कर सकते।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.