May 24, 2017

ताज़ा खबर

 

इस कैफे में पिएं चूहों के साथ कॉफी, पसंद आए तो ले जा सकते हैं घर

इस कैफे में एक कप कॉफी की कीमत 50 अमेरिकी डॉलर होगी।

यह चूहे गोद लेने के लिए हैं। यह चूहे कैलिफोर्नियां की रैट्टि रैट्ज नाम की अडॉप्शन संस्था के हैं।

अगर कोई काफी पी रहा हो और उसके आस पास कोई चूहा आ जाए तो एक बार को थोड़ा डर जाता है। कई बार उस चूहे को भगाने की कोशिश भी करता है। हम आपको एक ऐसे कैफे के बारे में बताने जा रहे हैं जहां चूहों को कैफे के अंदर रखा गया है। सैन फ्रांसिस्को में एक ऐसा काफी कैफे खुलने जा रहा है जहां चूहों के साथ काफी पीने का लुत्फ उठाया जा सकेगा। कैफे का नाम द ब्लैक रैट कैफे है। अगर आप भी चूहों को अपना दोस्त बनाकर उनके साथ कॉफी पीना चाहते हैं तो यहां पी सकते हैं। इस कैफे में एक कप कॉफी की कीमत 50 अमेरिकी डॉलर होगी।

अगर यहां कॉफी पीते पीते किसी चूहे से आपकी दोस्ती हो जाती है और आप उसे घर ले जाना चाहते हैं तो उसे अपनी पॉकेट में रखकर अपने घर ले जा सकते हैं। खबरों के मुताबिक यह चूहे गोद लेने के लिए हैं। यह चूहे कैलिफोर्नियां की रैट्टि रैट्ज नाम की अडॉप्शन संस्था के हैं। यह कैफे डॉनजेन में एक बेसमेंट में स्थित है। यह कैफे केवल 1 जुलाई से 8 जुलाई तक खोला जाएगा। संस्था के पास 250 से ज्यादा स्थानीय पालूत चूहे हैं। यह संस्था 1998 में बनाई गई थी। इस कैफे में मिलने वाली काफी, चाय, पेस्ट्रीज इस कैफे में नहीं बनाई जाती हैं।

आपको बता दें कि भारत में भी एक ऐसा कैफे है जहां खाने पीने का कोई बिल नहीं देना होता है। अहमदाबाद के सेवा कैफे में खाना खत्म होने के बाद आपके पास कोई बिल लेकर नहीं आएगा, लेकिन आपसे बस एक ही उम्मीद की जाएगी, किसी दूसरे की मदद करें। यानी इस कैफे में आप कुछ भी ऑर्डर करें, उसका बिल कभी नहीं चुकाना पड़ेगा क्योंकि आपका बिल किसी और ने दे दिया है। ये इस कैफे की एक दिन की स्कीम नहीं हैं बल्कि इस कैफे में खाना खाने के बाद आपको कभी अपना बिल नहीं देना पड़ता क्योंकि आपके लिए किसी और ने ये बिल गिफ्ट के तौर पर दे दिए हैं। यहां आने वाले लोग जो भी खाते हैं, उसके लिए उन्हें कोई पैसा नहीं देना होता, हालांकि वो किसी दूसरे के लिए चैरिटी करके जाते हैं। इस गिफ्ट इकॉनोमी से ही ये कैफे चल रहा है।

बाबा रामदेव ने 'पौष्टिक' से रेस्टोरेंट बिजनेस में रखा कदम; मिलेगा शुद्ध शाकाहारी खाना, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 18, 2017 4:46 pm

  1. No Comments.

सबरंग