December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

पनामा पेपर्स: नवाज़ शरीफ़ के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार की जांच करेगा न्यायिक आयोग, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान और अन्य लोगों की ओर से दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश जारी किया।

Author इस्लामाबाद | November 1, 2016 21:32 pm
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार (1 नवंबर) को प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को बड़ा झटका देते हुए पनामा पेपर्स मामले की जांच के लिए एक न्यायिक आयोग गठित करने का आदेश दिया। इस मामले में प्रधानमंत्री के परिवार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं तथा इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ शरीफ के इस्तीफे की मांग के लिए दबाव बना रही है। सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के प्रमुख इमरान खान और अन्य लोगों की ओर से दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह आदेश जारी किया। इन याचिकाओं में शरीफ और उनके रिश्तेदारों के खिलाफ पनामा पेपर्स मामलों में लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच की मांग की गई थी। इस साल की शुरुआत में पनामा पेपर्स का मामला सामने आया था जिसमें शरीफ के परिवार के कुछ लोगों पर विदेश कंपनियां खोलने और संपत्तियां रखने का आरोप लगा था।

प्रधान न्यायाधीश ने कहा, ‘यही आयोग सुप्रीम कोर्ट को रिपोर्ट करेगा।’ उन्होंने यह भी कहा कि इस आयोग के पास वहीं शक्तियां होंगी जो सुप्रीम कोर्ट के पास हैं। आयोग गठित करने का आयोग के फैसले को अदालत का आदेश माना जाएगा और सभी पक्षों पर बाध्यकारी होगा। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति अनवर जहीर जमाली की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय पीठ ने कई कैबिनेट मंत्रियों, याचिकाकर्ताओं के वकीलों, तहरीक-ए-इंसाफ के वरिष्ठ नेताओं और मीडिया की मौजूदगी में सुनवाई की। पाकिस्तान की शीर्ष अदालत ने कहा कि वह एक न्यायाधीश की अध्यक्षता में जांच आयोग गठित करने और सुप्रीम कोर्ट की शक्तियां देने के लिए तैयार है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार और याचिकाकर्ताओं को यह भी आदेश दिया कि वे जांच आयोग के लिए अपनी शर्तें तय करें।

उसने कहा कि अगर संबंधित पक्ष शर्तों को लेकर सहमति नहीं बनाते हैं तो शीर्ष अदालत शर्तों को तालमेल बैठाकर तय करेगी। सुनवाई को गुरुवार (3 नवंबर) तक के लिए स्थगित करने से पहले शीर्ष अदालत ने इस मामले में नियमित आधार पर सुनवाई की इच्छा जताई। सुप्रीम कोर्ट ने इस्लामाबाद में मंगलवार (2 नवंबर) को प्रस्तावित तहरीक-ए-इंसाफ के प्रदर्शन पर रोक नहीं लगाई। परंतु उसने सरकार और विपक्ष को संयम बरतने की सलाह दी। शीर्ष अदालत के के आदेश पर तहरीक-ए-इंसाफ के मुखिया इमरान खान ने कहा कि इस्लामाबाद में प्रस्तावित सरकार विरोधी रैली अब धन्यवाद दिवस के तौर पर आयोजित होगी। खान ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने संघर्ष का हिस्सा बने लागों का धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, ‘घर जाइए और आराम करिए। कल आपको परेड ग्राउंड में धन्यवाद समारोह के लिए इस्लामाबाद लौटना है।’

उन्होंने कहा, ‘मैं खुश हूं कि नवाज शरीफ की जांच आज (सोमवार) यह कल (मंगलवार) के बाद से शुरू हो जाएगी।’ तहरीक-ए-इंसाफ ने पनामा पेपर्स मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए इस्लामाबाद में रैली का ऐलान किया था। पनामा पेपर्स के अनुसार शरीफ की बेटी मरियम और बेटों हसन एवं हुसैन की विदेश में कपंनिया थीं तथा इनके जरिए कई लेनदेन हुए थे। शरीफ और उनके परिवार ने धनशोधन के आरोपों को खारिज किया है और कुछ भी गलत करने से इंकार किया है, लेकिन विपक्ष निष्पक्ष जांच की मांग कर रहा है।
सरकार ने इस्लामाबाद में तहरीक-ए-इंसाफ के प्रदर्शन को नाकाम करने के लिए प्रबंध किए हैं। इस्लामाबाद में प्रवेश के सभी रास्तों की निगरानी की जा रही है और तहरीक-ए-इंसाफ के बहुत सारे कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 1, 2016 9:07 pm

सबरंग