ताज़ा खबर
 

पहले PoK से कब्जा हटाए पाक: भारत

कश्मीर से सेना हटाने की पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मांग को खारिज करते हुए भारत ने गुरुवार को कहा कि इसके बजाय पाकिस्तान को ‘आतंकवाद मुक्त’ होना चाहिए..
Author संयुक्त राष्ट्र | October 2, 2015 13:35 pm
विकास स्वरूप ने नवाज शरीफ को करारे जवाब में कहा कि खुद को आतंकवाद से मुक्त करे पाकिस्तान।(फोटो-पीटीआई)

कश्मीर से सेना हटाने की पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मांग को खारिज करते हुए भारत ने गुरुवार को कहा कि इसके बजाय पाकिस्तान को ‘आतंकवाद मुक्त’ होना चाहिए। इससे पहले शरीफ ने भारत के साथ अपनी चार सूत्री ‘शांति पहल’ के तहत कश्मीर से सेना हटाने की मांग की थी। संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन में कश्मीर मुद्दा उठाते हुए शरीफ ने इसके हल नहीं हो पाने को वैश्विक संस्था की नाकामी बताया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, ‘कश्मीर से सेना हटाना इसका जवाब नहीं है। इसका जवाब है पाकिस्तान को आतंकवाद मुक्त करना।’ उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान प्रमुख रूप से आतंकवाद का शिकार नहीं है बल्कि अपनी खुद की नीतियों का पीड़ित है। वह दरअसल आतंकवाद का मुख्य प्रायोजक है।’

एक अन्य भारतीय अधिकारी ने पाकिस्तान को ‘आतंकवाद का मुख्य प्रायोजक’ बताते हुए कहा कि वह आतंकवाद को अपनी शासन नीति के ‘वैध हथियार’ के रूप में इस्तेमाल करता है। इससे पहले शरीफ ने कहा था कि पाकिस्तान आतंकवाद का ‘मुख्य शिकार’ है।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन में प्रथम सचिव अभिषेक सिंह ने महासभा के 70वें सत्र की आम चर्चा के दौरान जवाब देने के भारत के अधिकार का इस्तेमाल करते हुए कहा कि वास्तव में यह (पाकिस्तान) आतंकवाद को पालने-पोसने और प्रायोजित करने की अपनी खुद की नीतियों का शिकार है। मामले के केंद्रबिंदु में एक ऐसा देश है जो आतंकवाद का इस्तेमाल शासन नीति के वैध हथियार के रूप में करता है।

सिंह ने कहा कि विश्व चिंता के साथ देखता है क्योंकि इसके परिणाम उसके तात्कालिक पड़ोस से भी परे फैल चुके हैं। स्वरूप ने सिलसिलेवार ट्वीट के जरिए अपने जवाब में कहा, ‘पाकिस्तान की अस्थिरता इसके द्वारा आतंकवादियों को पालने पोसने से पैदा होती है। पड़ोसियों पर आरोप लगाना समाधान नहीं है।’ शरीफ की इस टिप्पणी पर कि ‘फिलस्तीनी और कश्मीरी लोग विदेशी कब्जे से पीड़ित हैं’, स्वरूप ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने विदेशी कब्जे की बात सही कही है, लेकिन कब्जा करने वाले का नाम गलत बताया है। हम पाक अधिकृत कश्मीर को जल्द खाली करने का आग्रह करते हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ‘विश्वभर में मुसलमानों के पीड़ित होने’ के बारे में बात करते हुए कश्मीर की तुलना फिलस्तीन से की थी। उन्होंने कहा था कि फिलस्तीनी और कश्मीरी विदेशी कब्जे से पीड़ित हैं। अभिषेक सिंह ने भी इस पर निशाना साधते हुए कहा, ‘जिस कब्जा करने वाले को लेकर सवाल उठ रहे हैं, वह पाकिस्तान है।’ उन्होंने कहा कि भारत ने हर मौके पर दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि भारत आज भी लंबित मुद्दों पर पाकिस्तान के साथ आतंकवाद और हिंसा से मुक्त माहौल में बात करने को तैयार है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग