ताज़ा खबर
 

आतंकवाद पर पाकिस्तान की निंदा वाली याचिका पर ब्रिटेन में रिकॉर्ड तोड़ हस्ताक्षर

लक्ष्य 29 मार्च 2017 की सीमा तक एक लाख हस्ताक्षर हासिल करना है ताकि इस मुद्दे पर ‘हाउस ऑफ कॉमन्स’ में संसदीय बहस करने पर विचार हो।
Author लंदन | October 2, 2016 20:58 pm
ब्रिटेन संसद हाउस ऑफ कॉमन्स (विकीपीडिया फोटो)

पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने के लिए इस देश की ‘कड़े शब्दों में निंदा’ के लिए ब्रिटेन से आह्वान करने वाली ब्रिटेन संसद की वेबसाइट पर मौजूद नई याचिका पर हस्ताक्षर करने वालों का आंकड़ा रविवार (2 अक्टूबर) को 10 हजार की सीमा को पार कर गया। अब ब्रिटिश सरकार इस पर प्रतिक्रिया देने की हकदार हो गई है। ‘ब्रिटिश सरकार आतंकवादियों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने हेतु पाकिस्तान की कड़े शब्दों में निंदा करेगी’ शीर्षक वाली याचिका पर अब हस्ताक्षर करने वालों की संख्या इस याचिका पर प्रतिक्रिया देने के लिए ब्रिटेन सरकार को हकदार बनाने के लिए जरूरी संख्या के आंकड़े को पार कर गई है। लेकिन लक्ष्य 29 मार्च 2017 की सीमा तक एक लाख हस्ताक्षर हासिल करना है ताकि इस मुद्दे पर ‘हाउस ऑफ कॉमन्स’ में संसदीय बहस करने पर विचार हो।

भारतीय मूल के पेशेवर नमन परोपकारी द्वारा लिखित याचिका में कहा गया, ‘पाकिस्तान निरंतर आतंकवाद के मुद्दे पर दोहरी बात करता रहा है। उसने आतंकवाद के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय गठबंधन (जिसमें ब्रिटेन अमेरिका का प्रमुख सहयोगी है) के दुश्मनों की मदद और उन्हें उकसाने का काम किया है। ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान में छिपा हुआ था। पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकी नेटवर्क को शरण देता रहता है।’ इसमें कहा गया कि आईएसआई पर अक्सर अमेरिका में 11 सितंबर 2001 हमला, कश्मीर में आतंकवाद, भारतीय संसद पर हमला और मुंबई आतंकी हमला सहित विश्वभर में बड़े आतंकी हमलों में भूमिका निभाने का आरोप लगता है। याचिका में कहा गया कि कई लोगों ने इस बात पर ध्यान दिया है कि पाकिस्तानी सेना और देश के खुफिया प्रतिष्ठान आईएसआई के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा कई आतंकवादी तथा आपराधिक संगठनों का समर्थन किया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 2, 2016 8:58 pm

  1. No Comments.
सबरंग