ताज़ा खबर
 

सिख पगड़ी मामला : छह में से पांच आरोपी हिरासत में, ईश निंदा कानून के तहत मामला दर्ज

पुलिस ने छह आरोपियों के खिलाफ रविवार (1 मई) को पाकिस्तान दंड संहित की धारा 295 (ईशनिंदा), 506 (धमकियां देना) और 148 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।
Author लाहौर | May 3, 2016 21:53 pm
अधिकतम सजा की मांग करते हुए अभियोजक ने दलील दी कि विदेशी के साथ हुआ अपराध बर्बरतापूर्ण एवं अमानवीय ढंग से किया गया तथा इन दोषियों ने देश की छवि पर धब्बा लगाया है।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में एक बस टर्मिनल पर झड़प के दौरान कथित रूप से एक सिख व्यक्ति की पगड़ी निकालकर फेंकने वाले छह व्यक्तियों में से पांच को गिरफ्तार कर लिया गया। मंगलवार (3 मई) को उन्हें अदालत में पेश किया जहां उन्हें पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। सभी छह लोगों के खिलाफ ईश निंदा कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है।

पुलिस ने पंजाब के मुलतान जिले के रहने वाले महिंदर पाल सिंह की शिकायत पर छह लोगों के खिलाफ ईश निंदा कानून के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। राशिद गुज्जर, बाकिर अली, फैज आलम, शकील और सनावल को चिचावटनी स्थित जिला अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उन्हें तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया।

चिचावटनी नगर पुलिस प्रभारी खैजर हयात ने कहा, ‘‘छठा संदिग्ध फरार है और हम उसकी गिरफ्तारी के लिए उसके ठिकानों पर छापेमारी कर रहे हैं।’’ पुलिस ने छह आरोपियों के खिलाफ रविवार (1 मई) को पाकिस्तान दंड संहित की धारा 295 (ईशनिंदा), 506 (धमकियां देना) और 148 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।

सिंह ने पुलिस को बताया कि वह पिछले हफ्ते एक बस से फैसलाबाद से मुलतान जा रहे थे। रास्ते में दिजकोट में बसखराब हो गयी। कोहिस्तान-फैसल मूवर्स बस की मालिकाना कंपनी है। उसने कहा कि चालक ने खराबी ठीक कर दी लेकिन बस की रफ्तार बहुत धीमी थी जिस वजह से चिचावटनी बस टर्मिनल पहुंचने में उसे पांच घंटे लग गए।

सिंह ने कहा, ‘‘इसे लेकर बहस होने लगी, जिसके बाद कंपनी के कर्मचारियों और यात्रियों के बीच झड़प हुई। लड़ाई के दौरान बस टर्मिनल पर फेरी लगाने वाले व्यक्ति राशिद गुज्जर ने मेरी पगड़ी निकालकर सड़क पर फेंक दी और अन्य ने मेरे साथ मारपीट की। सिख धर्म की परंपराओं में पगड़ी को पवित्र समझा जाता है और उसे सड़क पर फेंकना अपमान है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.