December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

दो भारतीय राजनयिकों को जासूसी के आरोप में वापस भेज सकता है पाकिस्तान

पाकिस्तान उच्चायोग के चार अधिकारियों ने बुधवार को भारत छोड़ दिया था।

पाकिस्तान स्थित भारतीय उच्चायोग। (Photo Source: www.india.org.pk)

पाकिस्तान इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग के दो अधिकारियों को देश छोड़ने का निर्देश दे सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन अधिकारियों के कथित रूप से विध्वंसक गतिविधियों में लिप्त होने पर पाकिस्तान सरकार यह आदेश जारी कर सकती है। इन दो अधिकारियों की तस्वीरें पाकिस्तान में अलग-अलग टीवी चैनलों पर प्रसारित की जा रही हैं। जीयो टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक कमर्शियल काउंसलर राजेश अग्निहोत्री और प्रेस काउंसलर बलबीर सिंह को पाकिस्तान छोड़ने के लिए कहा जा सकता है। सूत्रों के हवाले से चैनल ने दावा किया है कि अग्निहोत्री रॉ से जुड़े हुए थे, जबकि सिंह आईबी के लिए काम कर रहे थे। अपनी असली पहचान को छुपाने के लिए वे कथित रूप से अपने पदों का इस्तेमाल कर रहे थे। साथ ही दावा किया गया है कि सिंह पाकिस्तान में आतंकियों को एक नेटवर्क भी चला रहे थे, इस नेटवर्क में भारतीय उच्चायोग के निष्कासित अधिकारी सुरजीत सिंह भी शामिल थे। हालांकि, इस पर भारतीय उच्चायोग की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

वीडियो में देखें- महमूद अख्तर ने किया खुलासा- “पाक उच्चायोग के 16 और कर्मचारी जासूसी रैकेट में शामिल”

ये रिपोर्ट्स तब सामने आई हैं, जब दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग के चार अधिकारियों ने भारत छोड़ दिया है। इन चार अधिकारियों का नाम भारत से निष्कासित पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी मेहमूद अख्तर के रिकॉर्ड किए गए बयान में सामने आया था। इन अधिकारियों में कमर्शियल काउंसलर सैयद फारूख हबीब और प्रथम सचिव खादिम हुसैन, मुदस्सीर चीमा और शाहिद इकबाल शामिल हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत की ओर से जासूसी के लिए हाल में निष्कासित पाकिस्तानी उच्चायोग कर्मचारी ने 16 अन्य ‘कर्मचारियों’ के नाम लिए हैं जो कथित तौर पर जासूसी गिरोह में शामिल थे। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि दिल्ली पुलिस और गुप्तचर एजंसियों की ओर से निष्कासित पाकिस्तानी उच्चायोग के कर्मचारी महमूद अख्तर से की गई साझा पूछताछ में उसने दावा किया कि उच्चायोग के 16 अन्य कर्मचारी सेना और बीएसएफ की तैनाती संबंधी संवेदनशील सूचना व दस्तावेज निकलवाने के लिए जासूसों के संपर्क में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 2, 2016 6:48 pm

सबरंग