ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान में तीन दिनों में दूसरा हमला, क्वेटा अस्पताल के बाहर धमाके में 14 घायल

बचाव अधिकारियों ने बताया कि बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी में अल खैर अस्पताल के निकट हुए विस्फोट में 10 असैनिक और चार सुरक्षा अधिकारी घायल हुए हैं।
Author कराची | August 11, 2016 15:09 pm
क्वेटा के अल खैर (al khair) अस्पताल के बाहर धमाका हुआ। (गूगल फोटो)

पाकिस्तान के अशांत दक्षिण पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत के क्वेटा में एक अस्पताल के निकट एक न्यायाधीश को निशाना बनाकर गुरुवार (11 अगस्त) को किए गए विस्फोट में कम से कम 14 लोग घायल हो गए। यह विस्फोट इसी इलाके में हुए भीषण हमले में 74 लोगों के मारे जाने के कुछ दिनों बाद हुआ है। क्वेटा के जारघांव रोड पर न्यायमूर्ति जहूर शाहवानी के वाहन के साथ जा रहे आतंकवाद निरोधक बल के वाहन से टकराने से हुए विस्फोट में 14 लोग घायल हो गए। बलूचिस्तान के गृह मंत्री सरफराज बुगती ने बताया कि न्यायाधीश हमले में बच गए लेकिन उनकी सुरक्षा में लगे वाहनों में से एक बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। बम सड़क के किनारे लगाया गया था और आतंकवाद रोधी बल (एटीएफ) का वाहन गुजरने के बाद उसमें विस्फोट हुआ।

‘डॉन’ की रिपोर्ट के अनुसार बचाव अधिकारियों ने बताया कि बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी में अल खैर अस्पताल के निकट हुए विस्फोट में 10 असैनिक और चार सुरक्षा अधिकारी घायल हुए हैं। इनमें से दो की हालत गंभीर है। विस्फोट में आस-पास के भवनों की खिड़कियों के कांच टूट गए। पुलिस प्रवक्ता शहजादा फरहत ने बताया कि पुलिस अधिकारी और राहगीर घायल हुए हैं। सुरक्षा बल और बम निरोधक दस्ता साक्ष्य एकत्र करने के लिए घटनास्थल पर पहुंचा है। बचाव दल ने घायलों को नजदीकी अस्पताल पहुंचाया है। पुलिस ने इलाके को घेर लिया है और तलाश अभियान चल रहा है।

बलूचिस्तान के गृह मंत्री सरफराज बुगती ने कहा, ‘यह व्यस्त सड़क है और आतंकवादी इसका फायदा उठाते हैं और बम रखकर मोटरसाइकिल से भाग जाते हैं।’ उन्होंने विस्फोट स्थल पर मीडिया से बातचीत में हमले की जोरदार निंदा की। मंत्री ने कहा, ‘इन विस्फोटों का लक्ष्य बलूचिस्तान में स्वतंत्रता दिवस गतिविधियों को बाधित करना है। मुझे भरोसा है कि इस तरह के कायरतापूर्ण कृत्य हमारा मनोबल नहीं गिराएंगे। हम संघर्ष क्षेत्र में हैं और हम नए संकल्प के साथ लड़ेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘हम अपने सुरक्षा उपायों की समीक्षा कर रहे हैं और आप जमीन पर बदलाव देखेंगे।’

अखबार के अनुसार मंत्री ने बताया कि विस्फोट में तीन से चार किलोग्राम विस्फोटक सामग्री का इस्तेमाल किया गया। यह विस्फोट क्वेटा के सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में सोमवार (8 अगस्त) को हुए विस्फोट के कुछ ही दिनों बाद हुआ है। उस आत्मघाती हमले में 74 लोगों की मौत हुई थी और 115 अन्य घायल हुए थे। इनमें से ज्यादातर वकील और पत्रकार थे। सोमवार के विस्फोट के बाद से समूचे क्वेटा में तलाशी अभियान चल रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.