May 25, 2017

ताज़ा खबर

 

अमेरिका से पाक को फिर पड़ी डांट, कहा- कश्‍मीर मुद्दा उठाने से पहले आतंकी हमले बंद करो

अमेरिका ने पाकिस्‍तान से कहा है कि अगर वह कश्‍मीर के मामले पर अपनी आवाज सुनाना चाहता है तो पहले उसे सीमापार से हमलों को बंद करना होगा।

Author नई दिल्‍ली | October 9, 2016 19:22 pm
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (फाइल फोटो)

अमेरिका ने पाकिस्‍तान से कहा है कि अगर वह कश्‍मीर के मामले पर अपनी आवाज सुनाना चाहता है तो पहले उसे सीमापार से हमलों को बंद करना होगा। पाकिस्‍तानी अखबार डॉन के अनुसार, अमेरिकी सरकार के अधिकारियों और थिंक टैंक ने कश्‍मीर मुद्दे पर नवाज शरीफ के विशेष दूतों को यह संदेश दिया। ये दूत कश्‍मीर मुद्दे पर अमेरिका का समर्थन लेने के मकसद से गए थे और पांच दिनों तक उन्‍होंने इस संबंध में प्रयास किया। इस दौरान पाकिस्‍तानी दूतों ने यात्रा के पहले दिन चेतावनी दी कि अगर कश्‍मीर मुद्दे पर अमेरिका ने दखल नहीं दिया तो वह चीन-रूस-ईरान के साथ हो जाएगा। साथ ही कहा कि यदि भारत ने बलूचिस्‍तान का मुद्दा उठाया तो पाकिस्‍तान नक्‍सलियों को बढ़ावा देगा।

यात्रा के अंतिम दिन पाक अधिकारियों ने कहा कि नीति निर्माण में आतंकवाद का कोई रोल नहीं है और पाकिस्‍तान की जमीन से गैर राज्‍य तत्‍वों को काम करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। एक अधिकारी मुशाहिद हुसैन सैयद ने कहा कि संसद में इस मुद्दे पर सर्वसम्‍मति है, वहां पर सभी पार्टियों ने सरकार से आतंकवाद को रोकने के लिए 22 पॉइंट का प्रस्‍ताव पेश किया है। डॉन ने सूत्रों के हवाले से बताया कि शरीफ के सलाहकारों ने नोटिस किया कि आतंकवाद के चलते पाकिस्‍तान की छवि को गहरा नुकसान हुआ है। साथ ही कश्‍मीर के मुद्दे पर इसकी आवाज कमजोर हुई है। साथ ही उरी हमले के चलते कश्‍मीर में बुरहान वानी की मौत के बाद चल रहे तनाव की खबरें भी साइडलाइन हो गई।

सर्जिकल स्‍ट्राइक में एक साथ चार ठिकानों पर हुआ हमला, लश्‍कर को सबसे ज्‍यादा नुकसान, 20 आतंकी मरे

डॉन के लेख के अनुसार, शुरुआत में अमेरिकी अखबारों ने कश्‍मीर के मुद्दे पर भारत की आलोचना की। लेकिन हमले के बाद कवरेज आतंकवाद की ओर चली गई। कई रिपोर्ट में तो सीधे तौर पर पाकिस्‍तान को जिम्‍मेदार ठहराया गया। संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा की बैठक में पाकिस्‍तान को अलग कर दिया गया। शरीफ के सलाहकारों ने यात्रा के आखिरी दिन कहा कि अमेरिका दोनों देशों के बीच तनाव को कम करने के लिए अच्‍छा काम कर रहा है। उम्‍मीद है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सार्क समिट में शामिल होने के लिए मना लिया जाएगा।

भारत से 4,500 साल पुरानी ‘डांसिंग गर्ल’ मांगेगा पाकिस्‍तान, सिंधु घाटी सभ्‍यता की है निशानी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 9, 2016 7:21 pm

  1. V
    vinod rajpurohit
    Oct 10, 2016 at 7:56 am
    AB KE BAAR STAN KA PURI TRAH SE SAFAYA KAR KE DUNIYA KE NAKSHE SE STAN KA Namo nishan tak mita denge.
    Reply

    सबरंग