ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान: सबूतों के अभाव में RAW के तीन ‘एजेंट’ बरी, कोर्ट को नहीं मिला कोई सबूत

इनके खिलाफ विस्फोटक और अवैध हथियार रखने के पांच मामले थे।
Author कराची | October 23, 2016 20:11 pm
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

पाकिस्तान की एक अदालत ने भारतीय खुफिया एजेंसी ‘रॉ’ का एजेंट होने के आरोपी तीन पाकिस्तानी नागरिकों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है। इनके खिलाफ विस्फोटक और अवैध हथियार रखने के पांच मामले थे। ‘डॉन’ में की एक खबर के अनुसार, ताहिर उर्फ लाम्बा, जुनैद खान और इम्तियाज को पिछले वर्ष अप्रैल में मलिर क्षेत्र से विस्फोटक सामग्री और बिना लाइसेंस के हथियार रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का आरोप था कि ये कराची से संचालित राजनीतिक दल मुताहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के सदस्य हैं और इन्हें रॉ ने प्रशिक्षित किया है। एमक्यूएम मुजाहिरों (सिंध प्रांत की उर्दू भाषी जनता) का प्रतिनिधित्व करने का दावा करता है।

एमक्यूएम कराची की इकलौती सबसे बड़ी पार्टी है और लंबे समय से राजनीति में प्रभावशाली रही है। लेकिन संघ सरकार की ओर से शुरू किए गए ‘सफाई अभियान’ के कारण राजनीतिक दल काफी दबाव में है। खबर के अनुसार, आतंकवाद-विरोधी अदालत-छह के न्यायाधीश अब्दुल नईम मेमन ने केन्द्रीय कारागार के भीतर सुनवायी करते हुए आरोपियों को बरी कर दिया और कहा कि अभियोजन पक्ष आरोपियों के खिलाफ अपना मामला साबित करने में असफल रहा है।

अदालत ने कहा कि दस्तावेजी साक्ष्यों और अभियोजन पक्ष के गवाहों में बहुत फर्क है। पुलिस की जांच भी त्रुटिपूर्ण रही है। अभियोजन पक्ष के अनुसार, पुलिस ने पहले ताहिर और जुनैद को गिरफ्तार किया और उनके कब्जे से कथित रूप से विस्फोट, हथियार और हथगोले बरामद किए। उन लोगों ने इम्तियाज के बारे में बताया। उसे मार्च 2015 में एमक्यूएम मुख्यालय नाइन-जीरो से गिरफ्तार किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग