ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान का दावा- एनएसजी में एंट्री के लिए मिला दोे देशों का समर्थन

पाक प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के स्‍पेशल असिस्‍टेंट तारिक फातेमी ने कहा कि बेलारुस और कजाखस्‍तान ने एनएसजी सदस्‍यता के लिए समर्थन का भरोसा दिया है।
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

पाकिस्‍तान ने दावा किया है कि न्‍यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप में शामिल होने के लिए उसे दो देशों का समर्थन मिल गया है। रेडिया पाकिस्‍तान की रिपोर्ट के अनुसार पाक प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के स्‍पेशल असिस्‍टेंट तारिक फातेमी ने कहा कि बेलारुस और कजाखस्‍तान ने एनएसजी सदस्‍यता के लिए समर्थन का भरोसा दिया है। फातेमी ने कहा कि पाकिस्‍तान रूस और मध्‍य एशिया के देशों से रिश्‍तों के विस्‍तार में लगा है। बेलारुस के राष्‍ट्रपति अगले महीने पाकिस्‍तान यात्रा पर आएंगे।

उन्‍होंने बताया कि बेल्जियम से भी एनएसजी सदस्‍यता के लिए समर्थन मांगा गया है। फातेमी ने कहा कि पाकिस्‍तान तकनीकी अनुभव, क्षमता और परमाणु सुरक्षा व संरक्षा की जिम्‍मेदारी के आधार पर एनएसजी में शामिल करने की मांग करता है। उन्‍होंने कश्‍मीर को लेकर कहा कि दुनिया पाकिस्‍तान के रूख का समर्थन करती है। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा की बैठक में इस मामले को उठाएंगे। गौरतलब है कि भारत भी एनएसजी में सदस्‍यता की दावेदारी करता है। पिछले दिनों हुई एनएसजी की बैठक में चीन ने भारत की दावेदारी का विरोध किया था। चीन चाहता है कि पाकिस्‍तान को भी इसमें जगह दी जानी चाहिए।

एनएसजी में 48 देश शामिल है। यह संगठन परमाणु हथियारों के प्रसार को रोकने के लिए बनाया गया है। भारत और पाकिस्‍तान दोनों ही देश परमाणु हथियार संपन्‍न है। भारत ने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्‍ताक्षर नहीं कर रखे हैं। चीन व कुछ अन्‍य देश इसके चलते भी भारत को एनएसजी में शामिल किए जाने के विरोध में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग