ताज़ा खबर
 

कच्चे तेल की कीमत कम होने से कुवैत ने 16 साल बाद दिखाया बज़ट में घाटा

कुवैत ने करीब दो दशकों बाद पिछले हफ्ते बढ़ाई पेट्रोल की कीमत।
करीब दो दशकों बाद पिछले हफ्ते कुवैत में पेट्रोल की कीमतें बढ़ाई गईं. (फाइल फोटो)

खाड़ी के अमीर देश कुवैत ने 16 सालों बाद अपने सालाना बज़ट में घाटा दिखाया है। देश के वित्त मंत्री अनस अल-सालेह ने इसकी वजह तेल की गिरती कीमतों को बताया है। पेट्रोलियम उत्पादक 12 देशों के संगठन ओपेक के सदस्य कुवैत ने अपने सालाना बज़ट में 4.4 अरब दिनार (करीब 101 करोड़ रुपये) का वित्तीय घाटा दिखाया है। कुवैत का वित्त वर्ष 31 मार्च को समाप्त होता है। 1999 के बाद पहली बार कुवैत को वित्तीय घाटा हुआ है।

कुवैती वित्त मंत्री ने बताया कि पिछले वित्त वर्ष में कुवैत के राजस्व में 45 फीसदी की गिरावट हुई, जबकि खर्च में 14.8 फीसदी की कमी आई। कुवैत को पिछले वित्त वर्ष में तेल की बिक्री से 40.1 अरब डॉलर ( करीब दो लाख करोड़ रुपये) की आय हुई थी। जो इसके पहले के वित्त वर्ष से 46.3 प्रतिशत कम है। पिछले वित्त वर्ष में कुवैत के राजस्व में 89 फीसदी हिस्सेदारी तेल बिक्री की रही. लेकिन उससे पहले के वित्त वर्ष में तेल की बिक्री की राजस्व में हिस्सेदारी 95 फीसदी थी।

सालेह ने कुवैती संसद को बताया कि वो अंतरराष्ट्रीज ऋण बाजार से बॉन्ड लेकर इस वित्तीय घाटे की पूर्ति करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि कुवैत अंतरराष्ट्रीय बाजार से 10 अरब डॉलर (करीब 60 हजार करोड़ रुपये) तक के यूएस-डिनोमिनेटड बॉन्ड उधार लेगा। उन्होंने संसद को बताया कि कुवैत घरेलू बाजार से भी 6.6 अरब डॉलर (करीब 40 हजार करोड़ रुपये) का कर्ज लेगा।

Read Also: कांग्रेस की वरिष्ठ महिला नेता का शर्मनाक बयान- “रेप तो चलते ही रहते हैं, रेप इज कॉमन”

पिछले साल कुवैत ने करीब 600 अरब डॉलर का एक सॉवेरेन वेल्थ फंड बनाया था. इस फंड से ज्यादातर अमेरिका, यूरोप और एशिया में निवेश किया गया था। कुवैत का अनुमान के एक अप्रैल से शुरू हुए चालू वित्त वर्ष में उसे 28.9 अरब डॉलर (करीब 1.9 लाख करोड़ रुपये) का वित्तीय घाटा हो सकता है। इस घाटे को कम करने के लिए कुवैत ने पिछले हफ्ते पेट्रोल की कीमत में 83 फीसदी की बढ़ोतरी की। कुवैत में करीब दो दशकों बाद पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी की गई। पिछले साल कुवैत ने डीजल और केरोसीन की कीमतें बढ़ाई थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग