ताज़ा खबर
 

मसूद अजहर पर बैन को लेकर UN में चीन के विरोध पर अमेरिका बोला- कोई वीटो हमें एक्‍शन लेने से रोक नहीं पाएगा

अमेरिका के एक रक्षा अधिकारी ने कहा है कि पिछले महीने अमेरिका के रक्षामंत्री जेम्स मैटिस और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के बीच हुई बैठक में पाकिस्तान में आतंकी पनाहगाहों, चीन के आक्रामक व्यवहार और अफगानिस्तान की स्थिति जैसे मुद्दे छाए रहे ।
Author वाशिंगटन | April 4, 2017 17:42 pm
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अमेरिकी रक्षा मंत्री जनरल

अमेरिका के एक रक्षा अधिकारी ने कहा है कि पिछले महीने अमेरिका के रक्षामंत्री जेम्स मैटिस और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के बीच हुई बैठक में पाकिस्तान में आतंकी पनाहगाहों, चीन के आक्रामक व्यवहार और अफगानिस्तान की स्थिति जैसे मुद्दे छाए रहे ।
अधिकारी ने 24 मार्च को पेंटागन में हुई बैठक के बारे में कहा, ‘‘उन्होंने चीन को लेकर काफी बातचीत की…चीन द्वारा कई बार क्षेत्र में अपने पड़ोसियों को धौंस दिखाए जाने की चिंता के बारे में । इस बारे में चिंता थी ।’ रक्षामंत्री बनने के बाद मैटिस की किसी शीर्ष भारतीय अधिकारी के साथ यह उच्चस्तरीय वार्ता थी ।

अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा कि उत्तर कोरिया को लेकर चीन हमारे लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है । उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं के बीच पाकिस्तान और अफगानिस्तान से संबंधित चर्चा एक अहम विषय थी। अधिकारी ने कहा, ‘‘उन्होंने पाकिस्तान के बारे में बात की ।’’ उन्होंने यह भी कहा कि डोभाल ने इस मुद्दे पर मैटिस से ‘‘अधिक बात’’ की ।  रक्षा अधिकारी ने कहा कि अमेरिका पाकिस्तान को एक ऐसी स्थिति में देखना चाहेगा जहां वे सार्थक संबंध रख सकें । अधिकारी ने कहा, ‘‘उन्होंने अफगानिस्तान के बारे में काफी बात की ।’

बता दें कि भारत और अमेरिका ने रक्षा संबंध मजबूत करने का संकल्प लिया है और समुद्री सुरक्षा तथा आतंकवाद के खिलाफ निपटने समेत कई क्षेत्रीय मामलों पर सहयोग करने का निर्णय लिया है। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की अमेरिका के रक्षा मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) जेम्स मैटिस, गृह सुरक्षा मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) जॉन केली और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार लेफ्टिनेंट जनरल एच आर मैकमास्टर के साथ मुलाकातों के दौरान यह निर्णय लिया गया। इन सभी बैठकों में दक्षिण एशिया में आतंकवाद से पैदा हुई चुनौती से मिलकर निपटने के लिए भारत और अमेरिका के बीच सहयोग को गहरा करने और विस्तार देने की बात की गई।

उन्होंने शक्तिशाली सीनेट आर्म्ड सर्विसेस कमेटी के अध्यक्ष जॉन मैकेन और सीनेट सलेक्ट कमेटी ऑन इंटेलीजेंस के अध्यक्ष रिचर्ड बर से भी मुलाकात की। पेंटागन ने प्रवक्ता कैप्टन जेफ डेविस ने बैठक की जानकारी देते हुए कहा कि मैटिस और डोभाल ने अंतरराष्ट्रीय कानूनों एवं सिद्धांतों को बरकरार रखने में सहयोग को लेकर अपनी भूमिका पर चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘‘मैटिस ने दक्षिण एशिया क्षेत्र में स्थिरता को प्रोत्साहित करने के भारत के प्रयासों की प्रशंसा की। दोनों नेताओं ने हालिया वर्षों में रक्षा सहयोग में की गई अहम प्रगति को आगे बढ़ाने की पुन: पुष्टि की।’’

डेविस ने कहा, ‘‘रक्षा मंत्री मैटिस और एनएसए डोभाल ने समुद्री सुरक्षा और आतंकवाद से निपटने समेत क्षेत्रीय सुरक्षा के कई मुद्दों पर सहयोग को लेकर चर्चा की। दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच मजबूत रक्षा साझेदारी जारी रखने पर जोर दिया।’’

ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि डोभाल और मैकमास्टर ने बृहस्पतिवार को व्हाइट हाउस में मुलाकात के दौरान ‘‘सभी प्रकार के आतंकवादी खतरों से निपटने’’ के लिए साझेदारों के तौर पर साथ मिलकर काम करने की ‘‘प्रतिबद्धता’’ जताई। साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों बड़े लोकतांत्रिक देश आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एक साथ खड़े हैं।

Also Read: डोभाल ने ट्रंप द्वारा नामित NSA से भारत-अमेरिकी रणनीतिक संबंधों पर की चर्चा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग