December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

आतंकवाद, आर्थिक चुनौतियों से सफलतापूर्वक निपट रहा है पाकिस्तान: नवाज़ शरीफ़

शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवादियों के नेटवर्कों को नेस्तनाबूद कर दिया है और देश से आतंकवाद को पूरी तरह समाप्त करने के लिए उत्तरी हिस्से में दो लाख सैनिक तैनात हैं।

Author इस्लामाबाद | October 24, 2016 21:54 pm
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (AP File Photo)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोमवार (24 अक्टूबर) को कहा कि उनके देश ने आतंकवाद को समाप्त करने और देश की अर्थव्यवस्था को बदलने में बड़ी सफलता अर्जित की है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लागार्डे के साथ बैठक में यह बात कही। लागार्डे ने यहां शरीफ से मुलाकात की थी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार के अर्थव्यवस्था दल के अथक प्रयासों ने तीन साल की छोटी सी अवधि में पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था की तस्वीर बदल दी है। उन्होंने कहा, ‘हम आतंकवाद, अर्थव्यवस्था और बिजली की कमी की बड़ी चुनौतियों पर सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं जो हमें पिछली सरकारों से विरासत में मिली थीं।’

शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवादियों के नेटवर्कों को नेस्तनाबूद कर दिया है और देश से आतंकवाद को पूरी तरह समाप्त करने के लिए उत्तरी हिस्से में दो लाख सैनिक तैनात हैं। उन्होंने कहा, ‘आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में 24,000 से ज्यादा लोगों की जान चली गयी, करीब 50,000 घायल हो गये वहीं हमारी अर्थव्यवस्था को 100 अरब डॉलर का नुकसान हुआ।’ प्रधानमंत्री के मुताबिक हालात नियंत्रण में हैं लेकिन सशस्त्र बल देश से आतंकवादियों के बाकी ठिकानों को समाप्त करने के लिए अब भी कड़ी मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों में देश के बुनियादी ढांचे और संचार नेटवर्कों को दुरुस्त करना शामिल है।

शरीफ ने कहा कि उनकी सरकार पनबिजली, कोयला और एलएनजी की विद्युत परियोजनाएं स्थापित कर रही है और 2018 तक देश से बिजली की कमी की समस्या समाप्त हो जाएगी। पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में आईएमएफ की सहायता की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि मौजूदा सरकार ने एक समग्र सुधारवादी एजेंडा अपनाकर आर्थिक स्थिरता हासिल की है। एक प्रश्न के उत्तर में शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान अफगानिस्तान में स्थिरता लाने के लिहाज से मदद के लिए गंभीर है जो पाकिस्तान के भी हित में है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 9:54 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग