January 19, 2017

ताज़ा खबर

 

नरेंद्र मोदी की चुनौती पर नवाज शरीफ ने दिया जवाब-गरीबी और बेरोजगारी के खिलाफ जंग को तैयार हैं

नवाज शरीफ ने कहा, 'यदि वह (भारत) गरीबी को खत्म करने, बेरोजगारी से निजात पाने और विकासपथ पर बढ़ने के लिए सच में हमारे साथ मिलकर काम करना चाहते हैं तो यह लक्ष्य खून-खराबे, गोली और सीमा पर तनाव से नहीं हासिल होगा।'

पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Photo: The Dawn)

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा गरीबी और बेरोजगारी के विरुद्ध युद्ध छेड़ने की चुनौती को स्वीकार कर लिया है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार ‘द डॉन’ के हवाले से बताया गया कि बुधवार को पाकिस्तानी पार्लियामेंट के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सीमा पर युद्ध की बजाय देश के भीतर गरीबी और बेरोजगारी के खिलाफ जंग छेड़ने की बात कही।

कश्मीर मुद्दे और सीमा पर भारत के साथ बढ़े तनाव को ध्यान में रखकर चर्चा के लिए बुलाए गए संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए नवाज शरीफ ने कहा, ‘यदि वह (भारत) गरीबी को खत्म करने, बेरोजगारी से निजात पाने और विकासपथ पर बढ़ने के लिए सच में हमारे साथ मिलकर काम करना चाहते हैं तो यह लक्ष्य खून-खराबे, गोली और सीमा पर तनाव से नहीं हासिल होगा।’

हालांकि, नवाज शरीफ ने भारतीय प्रधानमंत्री का नाम नहीं लिया लेकिन उनका इशारा वहीं था। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने उरी हमले के बाद केरल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘अगर जंग छेड़नी है तो हमें गरीबी, बेरोजगारी और अशिक्षा के खिलाफ जंग छेड़ी चाहिए। आइए देखते हैं कौन इस जंग को पहले जीतता है।’

वीडियो: सर्जिकल स्ट्राइक पर जवाब देने से बचते अब्दुल बासित 

नवाज शरीफ ने अपने भाषण के दौरान सीमा पर दोनों देशों के बीच जारी गतिरोध और तनाव की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘जमीन में बारूद की बुवाई कर हम समृद्धि के फूल नहीं उगा सकते। धरती को टैंकों और तोपों से कुचलकर हम खुशहाली के मापदंड नहीं स्थापित कर सकते।’ शरीफ ने आगे अपने भाषण में कहा कि पाकिस्तान युद्ध के खिलाफ है, हम शांति के पक्षधर हैं। हम कश्मीर समेत सभी विवादित मुद्दों पर अर्थपूर्ण और विस्तारपूर्ण बातचीत का समर्थन करते हैं।

Read Also: हंदवाड़ा में आर्मी कैम्प पर आतंकी हमला, जवाबी कार्रवाई में तीसरा आतंकी भी ढेर, ऑपरेशन जारी

हालांकि, नवाज शरीफ के भाषण का बड़ा हिस्सा संयुक्त राष्ट्र में दिए गए उनके हालिया भाषण के इर्द गिर्द ही रहा। बातचीत के लिए राजी होने की बात कहने के बीच शरीफ यह कहना नहीं भूले कि पाकिस्तानी सेना हर स्थिति के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा कि हमारी खामोशी को कमजोरी समझने की गलती ना की जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 6, 2016 11:41 am

सबरंग