ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी: रिश्तों के अटूट बंधन में बंधे भारत-चीन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत-चीन के रिश्तों की डोर हजारों साल से हमें अटूट बंधन में बांधे हुए हैं। इसलिए दोनों को चाहिए कि हम एक-दूसरे को और बेहतर ढंग से समझे। चीन की राजधानी बीजिंग में आयोजित ‘विजिट इंडिया ईयर 2015’ कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए […]
Author February 3, 2015 12:33 pm
पाक के आतंक के खिलाफ भारत को चीन-रूस का समर्थन (फोटो: भाषा)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि भारत-चीन के रिश्तों की डोर हजारों साल से हमें अटूट बंधन में बांधे हुए हैं। इसलिए दोनों को चाहिए कि हम एक-दूसरे को और बेहतर ढंग से समझे।

चीन की राजधानी बीजिंग में आयोजित ‘विजिट इंडिया ईयर 2015’ कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हमारी पुरातन सभ्यताओं ने दुनिया को बहुत कुछ दिया है।

आने वाली सदी एशिया की होगी। इस सदी में हमें एक बार फिर दुनिया को बहुत कुछ देना है, बहुत कुछ बताना है। इसके लिए जरूरी है कि हम एक-दूसरे को देखें, जानें, और समझें। यह तब होगा जब हम, एक-दूसरे के यहां और बड़ी संख्या में आए-जाएं। जनता के बीच आदान प्रदान बढ़ाएं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सितंबर में हुई भारत यात्रा के समय हमने फैसला किया था कि 2015 में चीन में विजिट इंडिया ईयर होगा और 2016 में भारत में विजिट चाइना ईयर होगा।

उन्होंने चीन के लोगों को भारत आने का भी न्योता दिया। मोदी ने कहा, चीन के साथ मेरा निजी रूप से भी एक विशेष नाता है और मैं उसे बहुत गहरा रिश्ता समझता हूं।

मेरा जन्म जहां हुआ, वो गुजरात प्रदेश का एक छोटा सा गांव वड़नगर है, जहां चीन के प्रसिद्द यात्री, शुआन जांग आए थे। उन्होंने कहा कि इस समय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज बीजिंग में है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.