ताज़ा खबर
 

राखिन में 28 हिन्दुओं के सामूहिक कब्र मिले, रोहिंग्या आतंकवादियों ने की हत्या- म्यांमार आर्मी

आर्मी ने कहा है कि उन्हें सर्च ऑपरेशन के दौरान जिन 28 हिन्दुओं के शव मिले हैं उनमें 20 महिलाएंस 8 पुरुष शामिल हैं। मरने वालों में 6 बच्चे भी शामिल हैं इनकी उम्र 10 साल से कम है।
बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में राहत सामग्री के लिए छीनाझपटी करते रोहिंग्या मुस्लिम (फोटो-रायटर, 23 सितंबर)

म्यांमार की आर्मी ने रविवार (24 सितंबर) को कहा है कि हिंसा प्रभावित राखिन प्रांत में उन्हें 28 हिन्दुओं के कब्र मिले हैं। म्यांमार आर्मी के मुताबिक रोहिंग्या आतंकवादियों ने इन हिन्दुओं की हत्या की है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक म्यांमार आर्मी की इस घोषणा की पुष्टि नहीं की जा सकी है। जबर्दस्त हिंसा से प्रभावित राखिन प्रांत में 25 अगस्त से कानून व्यवस्था की स्थिति काफी बिगड़ी हुई है। म्यांमार के आर्मी चीफ की वेबसाइट पर जारी एक बयान में कहा गया है, ‘सुरक्षा बलों ने 28 हिन्दुओं की डेड बॉडी को पाया है और उन्हें खोदकर निकाला है, इनकी अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी के बंगाली आतंकवादियों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी।’ बता दें कि 25 अगस्त को अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (ARSA) द्वारा म्यांमार के पुलिसकर्मियों पर हमले के बाद इस इलाके में हिंसा भड़क उठी है। ARSA द्वारा हमले के बाद सेना ने इनके खिलाफ काफी हिंसक अभियान शुरू किया है।

आर्मी ने कहा है कि उन्हें सर्च ऑपरेशन के दौरान जिन 28 हिन्दुओं के शव मिले हैं उनमें 20 महिलाएंस 8 पुरुष शामिल हैं। मरने वालों में 6 बच्चे भी शामिल हैं इनकी उम्र 10 साल से कम है। म्यांमार सरकार के प्रवक्ता ज्वा हैते ने भी 28 लाशों के मिलने की पुष्टि की है। उत्तरी राखिन प्रांत में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि आतंकवादियों ने एक गड्ढ़े में 10 से 15 लोगों को दफनाया है। आर्मी चीफ ने जिस गांव में हिन्दुओं की लाशें मिलने का दावा किया है उसका नाम ये बा क्या है। ये गांव उत्तरी राखिन के खा मांग शेक इलाके के पास स्थित है। यहां हिन्दुओं और मुसलमानों की तादाद रहती है। इस इलाके के हिन्दुओं का कहना है कि 25 अगस्त को ARSA के आतंकवादियों ने यहां जमकर हिंसा की थी और कई लोगों की हत्या कर दी थी। बता दें कि राखिन प्रांत में हिंसा की वजह से 4 लाख 30 हजार मुसलमानों और 30 हजार हिन्दुओं का पलायन हुआ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग