March 25, 2017

ताज़ा खबर

 

चीन के रक्षा मंत्रालय के बाहर किया 1000 से अधिक लोगों ने प्रदर्शन

समाचार एजेंसी एपी के अनुसार प्रदर्शनकारी चीन की राजधानी बीजिंग स्थित सेना मुख्यालय भवन के बाहर कई घंटों तक खड़े रहे।

11 अक्टूबर को चीन के रक्षा मंत्रालय के बाहर इकट्ठा हुआ प्रदर्शनकारी। (AP Photo/Ng Han Guan)

मंगलवार (11 अक्टूबर) को चीन के रक्षा मंत्रालय के बाहर एक हजार से अधिक प्रदर्शनकारियों ने नारे लगाए और मार्च किया। चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी सेना है। माना जा रहा है कि प्रदर्शनकारी सैनिक थे। प्रदर्शनकारी राजधानी बीजिंग स्थित सेना मुख्यालय भवन के बाहर कई घंटों तक खड़े रहे। कई प्रदर्शनकारियों ने सैनिकों जैसी हरी पोशाक पहन रखी थी। प्रदर्शनकारियों के हाथ में चीन में सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के झंडे थे जिन पर हंसिया और हथौड़ा बना हुआ था। प्रदर्शनकारियों की मांग के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है। प्रदर्शनकारियों ने समाचार एजेंसी एपी को साक्षात्कार देने से इनकार कर दिया। चीनी सेंसर विभाग ने सोशल मीडिया पर चीनी रक्षा मंत्रालय और भूतपूर्व सैनिकों से जुड़े सर्च को सोशल मीडिया पर प्रतिबंधित कर दिया है। प्रदर्शनस्थल पर सैकड़ों पुलिसवाले और सादी वर्दी में सुरक्षाकर्मी तैनात थे। चीन में मीडिया पर सरकारी अंकुश है।

वीडियो: देखें बनारस के रामनगर की प्राचीन रामलीला-

चीनी अधिकारी और सेना के अफसर सेना और सैनिकों से जुड़े मसलों पर किसी भी तरह की बातचीत से बचते हैं। मानवाधिकार कार्यकर्ता हुआंग की ने समाचार एजेंसी एएपी से कहा कि चीन के पूर्व सैनिक इस साल 50 से अधिक प्रदर्शन कर सके हैं। हालांकि चीन की राजधानी में इतने बडे़ स्तर पर प्रदर्शन कम ही होते हैं। दो प्रदर्शनकारियों ने समाचार एजेंसी एपी से कहा कि प्रदर्शनकारी चीन के पूर्व सैनिक थे जो सरकार से पेंशन से जुड़े मुद्दे से जुड़ी मांग कर रहे थे लेकिन वो विदेशी मीडिया से इस मुद्दे पर चर्चा नहीं करना चाहते। प्रदर्शनकारियों ने समाचार एजेंसी से अपना नाम बताने से इनकार कर दिया।

मानवाधिकार मामलों से जुड़ी वेबसाइट मिनशेंग गुआनचा के संपादक लिउ फेइउवे के अनुसार एक सेवानिवृत्त सैनिक ने उन्हें बताया कि प्रदर्शनकारियों में पूर्व सैनिक मौजूद थे। लिउ ने कहा, “सेना में इतने लंबे समय तक नौकरी करने के बाद अब उनके पास कोई नौकरी नहीं है इसलिए वो प्रदर्शन कर रहे हैं। कुछ सैनिकों ने करीब डेढ़ दशक सेना में नौकरी की थी।” चीनी सेना में बड़े पैमाने पर आधुनिकीकरण किया जा रहा है। चीनी सेना जमीनी युद्ध के बजाय हवा और समुद्र में युद्ध के लिए खुद को ज्यादा तैयार कर रही है। पिछले कुछ सालों में दक्षिण चीनी सागर और पूर्वी चीनी सागर में चीन क्षेत्रीय विवादों में उलझा हुआ है। चीन और ताइवान के समुद्री सीमा को लेकर विवाद काफी तल्ख हो चुका है।

Read Also: चीन की कंपनी का अनोखा नियम, हर महिला कर्मचारी को करना पड़ता है अपने बॉस को किस

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पिछले साल घोषणा की थी कि 23 लाख सैनिकों वाली चीनी सेना की संख्या तीन लाख की कटौती की जाएगी। हालांकि अभी तक चीनी सरकार ने ये नहीं बताया है कि सेना से निकाले गए सैनिकों को किस तरह नियोजित किया जाएगा। चीनी सेना के पूर्व सैनिक पेंशन न देने या नाममात्र की पेंशन देने और कोई और नौकरी मिलने में आने वाली मुश्किलों को लेकर धरना-प्रदर्शन करते रहे हैं। अभी तक ये स्पष्ट नहीं हुआ है कि मंगलवार को किसी प्रदर्शनकारी को गिरफ्तार किया गया है या नहीं। स्थानीय पुलिस और चीनी रक्षा मंत्रालय ने समाचार एजेंसी के प्रश्नों का जवाब नहीं दिया।

Read Also: चीन : 10 महीने के इस बच्चे को है 15 उंगलियां और 16 अंगूठे, करानी पड़ेगी तीन बार सर्जरी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 11, 2016 6:57 pm

  1. No Comments.

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग