May 27, 2017

ताज़ा खबर

 

मेक्सिको: 2 कब्रों में एक साथ दफ़नाए गए 119 शव, मानवाधिकार आयोग ने लगाई फटकार

मुर्दाघरों में अत्यधिक भीड़ के कारण इन शवों को साझा कब्रों में दफना दिया गया था।

Author मेक्सिको सिटी | October 7, 2016 12:56 pm
राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य जांच करते हुए। (Photo courtesy of Gobierno de Morelos/upi.com)

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने वर्ष 2014 में 119 शवों को दो कब्रों में दफनाने को लेकर मध्य मेक्सिको के अधिकारियों को फटकार लगाई है। आयोग ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को मोरेलोस के अभियोजक कार्यालय को शवों को ‘सम्मानजनक’ तरीके से ‘नहीं’ दफनाने के लिए पीड़ित परिवारों से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगने के आदेश जारी किए। जिन शवों की पहचान न हो सकी हो और जिनपर किसी ने दावा न किया हो, कानून ऐसे शवों को दफनाने की इजाजत अधिकारियों को देता है, लेकिन आयोग ने कहा कि इस मामले में शवों के साथ किया गया व्यवहार ‘अनियमित’ था और यह प्रोटोकॉल का पालन करने में विफल रहा। इस घटना से मेक्सिको के लोगों में बहुत नाराजगी है। यहां नशा तस्करों के बीच एक दशक के युद्ध में करीब 28,000 लोग गायब हो गए हैं, और उनके परिजन अपने बेहद बेसब्री के साथ अपने लोगों को ढूंढ रहे हैं।

सरकारी मानवाधिकार आयोग ने मोरेलोस राज्य की सरकार को चार पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने के आदेश दिये हैं। ये वे परिवार हैं, जिनके द्वारा अपने प्रियजन की पहचान किए जाने के बावजूद उन्हें दफना दिया गया था। सभी शवों को मई में दफना दिए जाने के बाद लापता लोगों के रिश्तेदारों और गैर-सरकारी संगठनों के अनुरोध पर सिर्फ 21 शवों की पहचान की गई थी। मानवाधिकार संस्था ने कहा कि अन्य शवों की पहचान मुश्किल होगी क्योंकि शवों का रख रखाव बहुत खराब ढंग से किया गया था। आयोग के एक अधिकारी एनरीके गुआडर्मा ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘किसी भी व्यक्ति के अवशेषों का रखरखाव सम्मान के साथ किया जाना चाहिए और मरने वाले व्यक्ति की मौत की परिस्थितियों और स्थितियों का पता अधिकारियों द्वारा लगाया जाना चाहिए।’ मुर्दाघरों में अत्यधिक भीड़ के कारण इन शवों को साझा कब्रों में दफना दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 7, 2016 12:56 pm

  1. No Comments.

सबरंग