ताज़ा खबर
 

लीबिया: सिरते में आईएस के साथ झड़प, सरकार समर्थक 14 लड़ाकों की मौत

सरकार समर्थक बलों के कमांडर ने एएफपी को बताया कि आईएस के स्नाइपर जिहादी विद्रोही अभियान को धीमा कर रहे हैं।
Author सिरते | October 15, 2016 14:02 pm
लीबिया में जिहादियों के पूर्व गढ़ सिरते में इस्लामिक स्टेट समूह के साथ सरकार समर्थक बलों की झड़प हुई। इस दौरान अमेरिकी हवाई हमले में ध्वस्त मकान से धुआं निकलता हुआ। (REUTERS/Ismail Zitouny/14 Oct, 2016)

लीबिया में जिहादियों के पूर्व गढ़ सिरते में इस्लामिक स्टेट समूह के साथ हुई झड़प में सरकार समर्थक कम से कम 14 लड़ाकों की मौत हो गई। अस्पताल अधिकारी अब्देलतीफ अब्देल अली ने कहा, ‘झड़प सुबह नौ बजे (अंतरराष्ट्रीय समय अनुसार साज बजे) शुरू हुई और अभी तक इसमें 13 लोगों की मौत हो चुकी है और 25 से 30 लोग घायल हुए हैं। अन्य एक लड़ाका जिसकों गोली लगी थी, उसकी बाद में इलाज के दौरान मौत हो गई। अली ने कहा कि मारे गए लड़ाकों में से अधिकतर की मौत आईएस स्नाइपर की गोली लगने से हुई है।

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र समर्थित गवर्नमेंट ऑफ नेशनल अकॉर्ड (जीएनए) के साथ जुड़े बलों के 12 मई को त्रिपोली से 450 किमी दूर सिरते में अभियान शुरू करने के बाद से उन्होंने आईएस को वहां घेर लिया है। गुरुवार (13 अक्टूबर) को झड़पों के रुकने के बाद, जीएनए समर्थक लड़ाकों ने सिरते जिले में समुद्री तटीय आवास में आईएस के खिलाफ एकबार फिर लड़ाई शुरू की थी। एएफपी के एक पत्रकार ने कहा, ‘आईएस के गढ़ में कल (शुक्रवार, 14 अक्टूबर) कम से कम तीन अमेरिकी हवाई हमले किए गए।’ सरकार समर्थक बलों के कमांडर ने एएफपी को बताया कि आईएस के स्नाइपर जिहादी विद्रोही अभियान को धीमा कर रहे हैं।

अल-हेदी इस्सा ने एएफपी से कहा, ‘ये बंदूकधारी अच्छी तरह प्रशिक्षित थे और उनके पास पर्याप्त युद्ध सामग्री मौजूद थी। हवाई हमलों और घेराबंदी के बाद भी वे पीछे नहीं हट रहे थे।’ उन्होंने कहा, ‘इसलिए हमने अपने लड़ाकों की जान बचाने के लिए अभियान को धीमा चलाने को प्राथमिकता दी।’ झड़पों में जीएनए के 550 से अधिक लड़ाकों की मौत हो चुकी है और 3,000 घायल हुए हैं। आईएस के मारे गए लोगों की संख्या अज्ञात है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 15, 2016 2:02 pm

  1. No Comments.
सबरंग