December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

लीबिया तट से 2,400 शरणार्थियों को बचाया गया, 14 की मौत

सिएम पायलट में सवार होने की उम्मीद में 25 लोग समुद्र में ही कूद गए।

Author सिएम पायलट जहाज से | October 23, 2016 14:25 pm
भूमध्यसागर में बचाव अभ्यान के दौरान अप्रवासी। (Yara Nardi/Italian Red Cross press office/Handout via Reuters/20 Oct, 2016)

भूमध्य सागर में लीबिया के तट पर उस वक्त हृदयविदारक स्थिति पैदा हो गई जब बचावकर्मियों की ओर बढ़ने की कोशिश करते शरणार्थियों की तादाद को देखते हुए बचाव जहाज को पीछे हटना पड़ा। 24 घंटे की इस नाटकीय स्थिति के दौरान नॉर्वे के सिएम पायलट जहाज और अन्य सहायता नौकाओं के चालक दल के सदस्यों ने सिर्फ सीमित संसाधन के बलबूते और तस्करों की आक्रामकता के बीच घनघोर अंधेरे में घबराए शरणार्थियों को बचाया। इतालवी तटरक्षक के मुताबिक करीब 2,400 शरणार्थियों को बचाया गया और शनिवार (22 अक्टूबर) को समुद्र से 14 शव बरामद किए गए। बचाव अभियान के प्रभारी पुलिस अधिकारी पाल एरिक तिएगेन ने बताया, ‘इससे पहले मैंने कभी इस तरह का बचाव अभियान नहीं किया था। हमलोग ओकिरो (टैंकर) से 1,000 शरणार्थियों को सिएम पायलट जहाज पर भेजने की प्रक्रिया में थे कि अचानक लुटेरों की नौका नजर आई। उस वक्त उम्मीद की कोई किरण नजर नहीं आ रही थी।’

रबड़ की एक नौका पर सवार शरणार्थियों को अभी जहाज में लाने का काम बाकी था और उस वक्त तक जहाज अपनी क्षमता के मुताबिक पूरी तरह भर चुका था और उसमें अधिक यात्रियों को सवार नहीं किया जा सकता था लेकिन जहाज पर सवार होने के लिए बेकरार ये शरणार्थी उसकी ओर बढ़ने लगे और मदद के लिए पुकारने लगे। सिएम पायलट में सवार होने की उम्मीद में 25 लोग समुद्र में ही कूद गए और सिएम पायलट जहाज की ओर बढ़ने लगे जिसके कारण अन्य डोंगी पर सवार लोगों को ऐसा करने से रोकने के लिए जहाज के कप्तान को मजबूरन जहाज पीछे करना पड़ा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 2:25 pm

सबरंग