June 27, 2017

ताज़ा खबर
 

चीन सागर में तनाव के बीच जापान ने रवाना किए लड़ाकू विमान, पहले चीन ने कथित तौर पर उड़ाए थे ड्रोन

जापान रक्षा मंत्रालय ने बताया कि उन्होंने दो एफ-15 लड़ाकू विमान और एक अवाक्स प्रणाली सहित चार विमान टापू के आसपास समूद्र में रवाना किए गए हैं।

Author May 19, 2017 20:55 pm
दक्षिण चीन सागर में गश्ती के दौरान चीना कोस्ट गार्ड। (Photo- Renato Etac via AP)

जापान ने शुक्रवार (19 मई) को कहा कि विवादित समुद्री क्षेत्र में चल रहे चीनी पोत से ड्रोन उड़ाने के बाद उसने अपने लड़ाकू विमान रवाना कर दिए थे। पूर्वी चीन सागर में छोटे द्वीपों के एक समूह पर दोनों देशों के बीच तनाव चल रहा है। इन द्वीपों में कोई आबादी नहीं है। जापान सरकार के शीर्ष प्रवक्ता योशीहिदे सुगा ने नियमित ब्रीफिंग में बताया कि गुरूवार को हुए वाकये के खिलाफ जापान ने चीन पर एकतरफा रूप से तनाव बढ़ाने का आरोप लगाते हुए कड़ा विरोध जाहिर किया है।

जापान रक्षा मंत्रालय ने बताया कि उन्होंने दो एफ-15 लड़ाकू विमान और एक अवाक्स प्रणाली सहित चार विमान टापू के आसपास समूद्र में रवाना किए गए हैं। इलाके में अपना दावा जाहिर करने के लिए दोनों देशों के तट रक्षक पोत नियमित रूप से यहां गश्त लगाते हैं।

जापान तटीय रक्षक ने बताया कि तनाव का ताजा मामला गुरूवार को हुआ जब चार चीनी जहाज जापानी समुद्री क्षेत्र में दाखिल हुए। सुगा ने कहा, ‘‘हमने ऐसा पहली बार देखा है जब चीनी पोत द्वारा छोड़े गए ड्रोन समुद्री क्षेत्र में दिखें हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह चीन की और से की गई एक नई तरह की गतिविधि है। हम एकतरफा तौर पर तनाव को बढ़ावा देने का विरोध करते हैं और हम इसे बिल्कुल भी स्वीकार नहीं कर सकते।’’

दूसरी ओर चीन ने भारत और सिंगापुर के संयुक्त नौसैनिक युद्धाभ्यास पर सतर्क प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि इस तरह की गतिविधियों को दूसरे देशों के हितों को चोट नहीं पहुंचानी चाहिए। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने यहां मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘‘अगर इस तरह का आदान-प्रदान और सहयोग क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा के फायदे के लिए है, तो हमारा कोई विरोध नहीं है। विभिन्न देशों के बीच सामान्य आदान-प्रदान के बारे में हमारा बेहद खुला रवैया है।’’

उन्होंने यह बात भारत और सिंगापुर के बीच संयुक्त नौसैनिक अभ्यास पर चीन की प्रतिक्रिया मांगे जाने पर कही। चीन मुख्य चीनी भूभाग से 800 मील से अधिक दूरी तक द्वीपों समेत संसाधन संपन्न समस्त दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है। वह फिलीपीन, मलेशिया, ब्रूनेई और वियतनाम जैसे पड़ोसियों से आपत्ति के बावजूद इसपर दावा करता है।

देखिए वीडियो - सीमा विवाद पर चीनी नेता ने कहा तवांग देकर सीमा विवाद सुलझा लें; भारत ने कहा मुमकिन नहीं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 19, 2017 8:55 pm

  1. No Comments.
सबरंग