ताज़ा खबर
 

इराकी सेना के मुख्यालय पर आत्मघाती हमला, जनरल सहित छह की मौत

सैन्य व पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि अनबर प्रांत के हदीथा इलाके में सोमवार देर रात बम हमलावरों ने सैन्य रेंजीमेंट के मुख्यालय पर हमला किया था।
Author बगदाद | March 1, 2016 22:47 pm
इस्लामिक स्टेट के खिलाफ मोर्चा लेते इराकी सेना के जवान।

बगदाद के पश्चिम में इस्लामिक स्टेट (आइएस) के पांच आत्मघाती बम हमलावरों ने सोमवार देर रात सेना मुख्यालय को निशाना बनाया। हमलावर मुख्यालय में घुस गए और खुद को विस्फोट कर खुद को उड़ा लिया। इस हमले में एक इराकी जनरल और पांच अन्य सैनिक मारे गए। सैन्य व पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि अनबर प्रांत के हदीथा इलाके में सोमवार देर रात बम हमलावरों ने सैन्य रेंजीमेंट के मुख्यालय पर हमला किया था। इस हमले में स्टाफ बिगे्रडियर जनरल अली एबाउद, लेफ्टिनेंट कर्नल फरहान इब्राहिम और चार अन्य मारे गए। अल जजीरा आॅपरेशंस कमांड के प्रमुख मेजर जनरल अली इब्राहिम दाबाउन ने बताया कि एक आत्मघाती बम हमलावर ने एबाउद के कार्यालय में विस्फोट कर खुद को उड़ा लिया, जबकि अन्य तीनों ने मुख्यालय में दूसरी जगह विस्फोट कर खुद को उड़ा लिया। उन्होंने बताया कि इस हमले में सात सैनिक घायल भी हो गए।

हदीथा के पुलिस प्रमुख कर्नल फारूक अल जुघौफी ने इस हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि यह इलाके में स्थित एक बड़े बांध के पास हुआ। उन्होंने बताया कि हमलावर फौजियों की वर्दी में थे। इस बीच बगदाद के उत्तरी इलाके को फिर से अपने कब्जे में लेने के लिए इराकी बलों ने नए सिरे से अभियान छेड़ दिया है। संयुक्त अभियान कमान की ओर से जारी बयान के अनुसार मंगलवार सुबह में समारा शहर के उत्तर पूर्व में स्थित एक खाली कृषि क्षेत्र से आक्रामक अभियान की शुरुआत की गई।

इसका मकसद आइएस की सप्लाई लाइन को काटना और इस आतंकी समूह के कब्जे वाले उत्तरी शहर मोसुल पर अपनी पकड़ मजबूत करना है। कमान ने कहा है कि जाजेरात समारा पर फिर से कब्जा करने के लिए अर्धसैनिक बल और इराकी वायु सेना मदद कर रहे हैं। बयान में यह नहीं कहा गया है कि अभियान में अमेरिका के नेतृत्व वाला अंतरराष्ट्रीय गठबंधन हिस्सा ले रहा है या नहीं।

आतंकवाद रोधी बलों के प्रवक्ता सबा अल-नुमान ने कहा कि जाजेरात समारा इलाके पर नियंत्रण पाने से तीन क्षेत्रों में आइएस आतंकवादियों की गतिविधियों को न सिर्फ रोका जा सकेगा, बल्कि अनबर प्रांत और मोसुल पर फिर से कब्जा करने की दृष्टि से भी यह अहम हो जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.